Saturday , November 27 2021
Home / ऑफबीट / लॉकडाउन में मास्साब के घर नहीं जल रहा था चूल्हा, फिर जो हुआ उसने सबको रुला दिया

लॉकडाउन में मास्साब के घर नहीं जल रहा था चूल्हा, फिर जो हुआ उसने सबको रुला दिया

लॉकडाउन को लेकर अगर किसी का नुकसान हुआ है तो वह है प्रतिदिन मजदूरी करने वाले मजदूर, औऱ गरीब परिवार लेकिन उनके साथ अब ट्यूशन कराने वाला शिक्षकों के सामने भी भूखमरी आ गई है लॉकडाउन होने के वजह से वो बच्चों को टयूशन नही दे पा रहे है जिसके वजह से उनके परिवार भूखे रहने को मजबूर है, ऐसा ही मामला भागलपुर से सामने आया है जहां बड़े बड़े नेता अपने घरों में एसी औऱ हिटर लगा कर सोते है, और उनसे ही कुछ दूरी पर भूखे लोग मरने को मजबूर है. उनका क्या ?

बताया जा रहा है कि भीखनपुर के रहने वाला 3 बच्चों का पिता प्रदीप कुमार राय होम ट्यूशन पढ़ाकर अपना और अपने बच्चों का भरण पोषण करते थे, पत्नी की मृत्यु के बाद प्रदीप ही बच्चों के लिए पिता और मां दोनों की भूमिका में हैं, होम ट्यूशन से जो आमदनी होती थी, उससे उनका खर्चा और बच्चों की पढ़ाई के साथ अन्य जरूरतों की पूर्ति होती थी, लेकिन लॉकडाउन के कारण ट्यूशन छूट जाने से पैसों की किल्लत हो गई और भुखमरी के हालात पैदा हो गये.

फिर भीखनपुर वार्ड संख्या 34 में रहने वाले (गुरु जी) प्रदीप कुमार राय को भी  राशन और भोजन को लेकर बच्चों के साथ राहत कैम्प पहुंचाना पड़ा, सीओ से गुहार लगायी जिसके बाद पहले सब को भोजन कराया गया और फिर सूखा राशन और सीओ के द्वारा अपनी ओर से पांच सौ रूपये की सहायता राशि प्रदान की गयी.

जानकारी के अनुसार सीओ जगदीशपुर ने गुरुजी से शाम का खाना लेकर जाने की बात कही. साथ उन्होंने बच्चों के लिए भोजन घर पर लेकर जाने की भी बात कही. इस बात को सुनकर शिक्षक प्रदीप कुमार के आंख से आसू निकल आए और वो कहने लगे कि हमने कभी नही सोचा था कि ऐसे स्थिति हमारे सामने आएगी.

शिविर में मौजूद जगदीशपुर सीओ से प्रदीप और उसकी बेटियों ने कई समस्या सामने रखा, जैसे कि लाइन के लिए कई बार आवेदन बिजली विभाग को दिया गया, लेकिन आवेदन के आलोक में अब तक बिजली का कनेक्शन नहीं लग पाया है, जिस पर सीओ ने अपना मोबाइल नम्बर देते हुए आश्वासन दिया कि कोरोना संकट के बाद बिजली का कनेक्शन करवा दिया जाएगा.

 

loading...

Check Also

पेट्रोल-डीजल की कमी के बाद अब इस देश में अंडरवियर्स और पजामे की भारी किल्लत

लंदन (ईएमएस)।आपकों जानकार हैरानी होगी कि यूके में इन दिनों अंडरवियर्स और पजामे की भारी ...