वैश्विक धारणा के दूसरे दिन भी सुधार जारी रहा

0
9

लगातार दूसरे दिन वैश्विक शेयर बाजारों में धारणा सकारात्मक रही और घरेलू बाजार में सुधार देखने को मिला। मंगलवार को भारतीय बाजार दो फीसदी के करीब चढ़ा। बीएसई सेंसेक्स 934 अंक उछलकर 52,352 पर जबकि निफ्टी 289 अंक उछलकर 15,639 पर बंद हुआ। निफ्टी के 50 कंपोनेंट काउंटरों में से केवल अपोलो अस्पताल में मामूली गिरावट देखी गई। जबकि अन्य 49 काउंटरों में 6 फीसदी तक की मजबूती दिखाई दी। वोलैटिलिटी इंडेक्स इंडिया वेक्स 6% गिरकर 21.14 पर बंद हुआ। व्यापक बाजारों में भी मजबूती देखी गई और बीएसई पर लगभग तीन शेयरों में सुधार के मुकाबले एक शेयर कमजोर हो रहा था।

मंगलवार का दिन पूरी तरह से तेजी का रहने वाला था। वैश्विक बाजारों के पीछे सकारात्मक शुरुआत दिखाने के बाद बेंचमार्क में तेजी बनी रही और एक दिन की बढ़त के साथ 1.9 फीसदी की बढ़त के साथ बंद हुआ। निफ्टी ने 15,700 के स्तर से वापसी की। इसका बैरियर 15,700-16,000 की सीमा में है। सीमा पार करने पर और सुधार संभव है। भारतीय बाजार को सभी क्षेत्रों से छोटा और बड़ा समर्थन मिला है। इनमें आईटी, मेटल, पीएसयू बैंक, ऑटो और फार्मा शामिल थे। निफ्टी मेटल 4 फीसदी उछला। रत्नमणि मेटल में 12 फीसदी, सेल में 6 फीसदी, हिंडाल्को में 5.5 फीसदी, वेलस्पन कॉर्प में 5.22 फीसदी, जेएसडब्ल्यू स्टील में 4.7 फीसदी, कोल इंडिया में 4.5 फीसदी और जिंदल स्टील में 4.34 फीसदी की तेजी रही। निफ्टी आईटी इंडेक्स 3.13 फीसदी चढ़ा। मिड-कैप काउंटर प्रमुख थे। जैसे कॉफ़र्ज़ 6.7 प्रतिशत, एम्फ़ासिस 5 प्रतिशत, माइंडट्री 5 प्रतिशत, एलएंडटी इंफ़टेक 4 प्रतिशत, एलएंडडी टेक्नोलॉजी 4 फीसदी और टीसीएस 3 फीसदी। निफ्टी ऑटो 2% चढ़ा। इनमें अमरराजा बैटरीज में 4.3 फीसदी, टाटा मोटर्स की 4 फीसदी, भारत फर्ज की 4 फीसदी और एक्साइड एंड की 3.45 फीसदी की तेजी रही। निफ्टी पीएसयू बैंक इंडेक्स एक महत्वपूर्ण अवधि के बाद 4 फीसदी उछला। इनमें बैंक ऑफ बड़ौदा 5.4 फीसदी, पीएनबी 4.6 फीसदी, केनरा बैंक 4.5 फीसदी, एसबीआई 3.7 फीसदी और इंडियन बैंक 3.6 फीसदी शामिल हैं। फार्मा इंडेक्स में 2.1 फीसदी का सुधार हुआ। अरबिंदो फ़िरमा 5 प्रतिशत के साथ सबसे मजबूत था। इसके अलावा ल्यूपिन 3.8 फीसदी, जायडस कैडिला 3.5 फीसदी, बायोकॉन 2.8 फीसदी, डॉ. रेड्डीज लैब 2.9 फीसदी और टोरेंट फार्मा 2 फीसदी ऊपर था। निफ्टी पीएसयू बैंक इंडेक्स एक महत्वपूर्ण अवधि के बाद 4 फीसदी उछला। इनमें बैंक ऑफ बड़ौदा 5.4 फीसदी, पीएनबी 4.6 फीसदी, केनरा बैंक 4.5 फीसदी, एसबीआई 3.7 फीसदी और इंडियन बैंक 3.6 फीसदी शामिल हैं। फार्मा इंडेक्स में 2.1 फीसदी का सुधार हुआ है। अरबिंदो फ़िरमा 5 प्रतिशत के साथ सबसे मजबूत था। इसके अलावा ल्यूपिन 3.8 फीसदी, जायडस कैडिला 3.5 फीसदी, बायोकॉन 2.8 फीसदी, डॉ. रेड्डीज लैब 2.9 फीसदी और टोरेंट फार्मा 2 फीसदी ऊपर था। निफ्टी पीएसयू बैंक इंडेक्स एक महत्वपूर्ण अवधि के बाद 4 फीसदी उछला। इनमें बैंक ऑफ बड़ौदा 5.4 फीसदी, पीएनबी 4.6 फीसदी, केनरा बैंक 4.5 फीसदी, एसबीआई 3.7 फीसदी और इंडियन बैंक 3.6 फीसदी शामिल हैं। फार्मा इंडेक्स में 2.1 फीसदी का सुधार हुआ है। अरबिंदो फ़िरमा 5 प्रतिशत के साथ सबसे मजबूत था। इसके अलावा ल्यूपिन 3.8 फीसदी, जायडस कैडिला 3.5 फीसदी, बायोकॉन 2.8 फीसदी, डॉ. रेड्डीज लैब 2.9 फीसदी और टोरेंट फार्मा 2 फीसदी ऊपर था।

निफ्टी के काउंटरों की बात करें तो टाइटन 6% के सुधार के साथ सूची में सबसे ऊपर था। हिंडाल्को में 5.5 फीसदी, जेएसडब्ल्यू स्टील में 4.7 फीसदी, अदाणी पॉटर्स में 4 फीसदी, टाटा मोटर्स में 3.9 फीसदी, एसबीआई में 3.7 फीसदी और ओएनजीसी में 3.5 फीसदी की तेजी रही। एकमात्र अपोलो अस्पताल 0.09 प्रतिशत की मामूली गिरावट के साथ बंद हुआ। एनएसई डेरिवेटिव्स काउंटरों में इंडियामार्ट ने 10 फीसदी की छलांग लगाई। इंडियाबुल्स हाउसिंग 9 फीसदी, जीएनएफसी 8 फीसदी, आरबीएल बैंक 8 फीसदी, हिंद कॉपर 8 फीसदी, एसबीआई कार्ड 7 फीसदी, एमसीएक्स इंडिया 6.5 फीसदी, भेल 6.3 फीसदी और वोडाफोन आइडिया 6.3 फीसदी ऊपर था। जबकि पेज इंडस्ट्रीज, अल्केम लैब, सीजी कंज्यूमर, इंडस टावर्स, एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक और पिडिलाइड इंडस्ट्री। नकारात्मक के रूप में देखा गया। व्यापक बाजार में एक महत्वपूर्ण अवधि के बाद खरीदारी हुई। जिससे बीएसई पर बाजार-चौड़ाई सकारात्मक देखी गई। प्लेटफॉर्म पर कुल 3462 ट्रेडेड काउंटर 2477 पॉजिटिव क्लोजर दिखा रहे थे। जबकि सिर्फ 853 काउंटर निगेटिव निकले।

दूसरी ओर, 43 काउंटरों ने अपनी वार्षिक चोटियों को दर्ज किया। एक तेजी के दिन भी, 171 काउंटरों ने अपने वार्षिक निचले स्तर को छुआ। इस प्रकार, मीड और स्मॉल-कैप में बिक्री भी बनी रही। बाजार विश्लेषकों के मुताबिक मंगलवार को तेज सुधार के बाद आने वाले सत्रों में बाजार में मजबूती देखने को मिल सकती है। जिसके दौरान स्टॉक विशिष्ट सुधार को बनाए रखा जाएगा। जबकि वे आईटी में शॉर्ट कवरिंग को आगे बढ़ाने की संभावना व्यक्त कर रहे हैं।