श्रावण सोमवार व्रत 2022: श्रावण के ये सोमवार, शिव और विष्णु की होगी कृपा! जानिए पूजा का समय और तरीका

श्रावण सोमवार व्रत 2022: हिंदू धर्म में श्रावण मास का विशेष महत्व है। भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए इस महीने के दौरान विभिन्न स्थानों पर रुद्राभिषेक किया जाता है। शिव मंदिर में दूध और पानी से अभिषेक किया जाता है। भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए श्रावण मास के प्रत्येक सोमवार को बड़ी संख्या में रुद्राभिषेक किया जाता है। इन दिनों हर कोई लोगों को उनकी आस्था के अनुसार देता है। श्रावण के महीने में, भक्त गंगा नदी के जल को अपने कंधों पर उठाकर शिव मंदिर तक ले जाते हैं और भगवान भोलेनाथ का अभिषेक करते हैं। श्रावण मास में भक्त आस्था और भक्ति के सागर में डूब जाता है। इसी बीच श्रावण मास के चौथे सोमवार को एक अद्भुत संयोग हो रहा है। यदि इस दिन व्रत किया जाए तो भक्तों को भगवान विष्णु और भगवान शिव का एक साथ आशीर्वाद प्राप्त होता है।

उत्तर भारत में श्रावण मास कब शुरू होता है?
हिन्दू धर्म में श्रावण मास का बहुत महत्व है। इस महीने को पवित्र महीना माना जाता है। इस महीने में भगवान शिव की विशेष पूजा की जाती है जो भगवान शिव को समर्पित है। श्रावण मास के प्रत्येक सोमवार को व्रत किया जाता है। साथ ही पूरे महीने शिव मंदिरों में विशेष पूजा की जाती है। श्रावण मास में भगवान शंकर को जल चढ़ाकर और व्रत तोड़कर पुण्य की प्राप्ति होती है। उत्तर भारत में श्रावण का पवित्र महीना 14 जुलाई से शुरू होकर 12 अगस्त तक चलेगा। श्रावण में इस समय कुल 4 सोमवार आ रहे हैं। अविवाहित लड़कियों के लिए सोमवार का दिन बेहद खास माना जाता है।

हिंदू पंचांग के अनुसार, श्रावण पांचवां महीना है
और उत्तर भारत को छोड़कर, 29 जुलाई से श्रावण मास शुरू होता है, और श्रावण का अंतिम दिन 27 अगस्त को पड़ता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार श्रावण पंचम मास है

श्रावण सोमवार संयोग

श्रावण मास के चौथे सोमवार को अद्भुत संयोग हो रहा है। 8 अगस्त को श्रावण मास का चौथा सोमवार आ रहा है। इसी दिन एकादशी भी है। इस एकादशी को पवित्र एकादशी भी कहा जाता है। यदि इस दिन व्रत किया जाए तो भक्तों को भगवान विष्णु और भगवान शिव का एक साथ आशीर्वाद प्राप्त होता है।

पूजा विधि 

श्रावणी सोमवार का व्रत करने के लिए प्रातः स्नान कर पूजा स्थल की सफाई करनी चाहिए। इस समय शिव मंदिर जाएं और भगवान भोलेनाथ को जल चढ़ाएं। महादेव का व्रत पूरी श्रद्धा से लेना चाहिए। इस दिन भगवान शिव की पूजा के अलावा लक्ष्मी और भगवान विष्णु की पूजा करें। जिससे एकादशी होने से भगवान विष्णु की पूजा का भी लाभ मिलेगा। व्रत के दौरान श्रवण की कथाएं सुनें। पूजा करने के बाद प्रसाद बांटें।