Sunday , June 13 2021
Breaking News
Home / खबर / सबूत के साथ सवाल: बिहार में कोरोना से मौत के आंकड़ों में हेराफेरी क्यों?

सबूत के साथ सवाल: बिहार में कोरोना से मौत के आंकड़ों में हेराफेरी क्यों?

पटना. बिहार में कम होती कोरोना की रफ्तार के बाद अब सरकारी महकमा मौत के आंकड़ों में खेल करने लगा है। पटना जिला प्रशासन ने अपनी रिपोर्ट में अब तक जिले में कोरोना से 2,197 लोगों की मौत की बात कही है। वहीं, राज्य स्वास्थ्य विभाग पटना में सिर्फ 1,168 लोगों की ही मौत होने की बात स्वीकार रहा है। दोनों के आंकड़ों में करीब 88% का भारी अंतर है। यह बात मीडिया की पड़ताल में सामने आई है।

पटना जिला प्रशासन का कहना है कि शेष 1,029 लोगों का डाटा निजी अस्पताल, शवदाह गृह, जिला नियंत्रण कक्ष से लिए गए हैं। वहीं, सवाल पूछने पर स्वास्थ्य विभाग का रोना है कि उसके पास निजी अस्पतालों और अन्य स्त्रोतों से जानकारी सही समय पर नहीं आती है, इस कारण अंतर हो गया होगा।

पटना प्रशासन ने बताई मृतकों की सूची

पटना जिला प्रशासन ने बताया कि सूची मिलान और सत्यापन के बाद जिले में मृतकों की कुल संख्या 2,197 है। इसमें से राज्य स्वास्थ्य समिति के पोर्टल से जिले की सत्यापित संख्या 1,168 है तथा निजी अस्पताल, शवदाह गृह, जिला नियंत्रण कक्ष एवं अन्य स्रोत की सत्यापित संख्या 1,029 है। सूची में प्रथम एवं द्वितीय लहर के मृतकों की संख्या शामिल किए जाने का दावा किया गया है।

जिला प्रशासन ने ऐसे किया सर्वे

पटना जिला प्रशासन ने कोरोना से मरने वालों की सूची तैयार करने का कई आधार बताया है। प्रशासन का कहना है कि इसके लिए राज्य स्वास्थ्य समिति के पोर्टल, निजी अस्पताल, शवदाह गृह, जिला नियंत्रण कक्ष से रिपोर्ट मांगी गई थी और अन्य स्रोतों से आए आवेदनों को भी इसमें शामिल किया गया। हर स्रोतों से आए कोविड-19 मृतकों की सूची का मिलान और फिर उसका सत्यापन किया गया है।

मुआवजे की राशि हड़पने की योजना तो नहीं

पटना प्रशासन का कहना है कि कोविड-19 से मरने वालों के आश्रितों को मुख्यमंत्री राहत कोष से 4 लाख रुपए देने के लिए कार्रवाई की जा रही है। इसके लिए जिला अंतर्गत कोविड-19 मृतकों की सूची तैयार की गई है। सूची के मिलान एवं सत्यापन के बाद कुल संख्या 2,197 है। इसमें से राज्य स्वास्थ्य समिति के पोर्टल से जिला की सत्यापित संख्या 1,168 है तथा अन्य स्रोत से सत्यापित संख्या 1,029 है।

कोविड-19 मृतकों की सूची बिल्कुल पारदर्शी एवं स्वच्छ रूप से तथा सत्यापन के उपरांत तैयार की गई है। मुआवजा सिर्फ पोर्टल पर उपलब्ध नामों के परिजनों को ही मिलता है। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि कहीं आंकड़ों में यह खेल मुआवजे के रकम को हड़पने के लिए तो नहीं?

जांच हुई तो सभी 38 जिलों में आएगा अंतर

कोरोना से मरने वालों की सूची में स्वास्थ्य विभाग के पोर्टल और अन्य स्रोत का यह अंतर बिहार के 38 जिलों में होगा। क्योंकि निजी अस्पताल और अन्य स्रोतों की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को समय से नहीं मिल पाती है। राज्य स्वास्थ्य समिति के आंकड़ों की बात करें तो बिहार में 4 जून तक कुल 5,319 लोगों की मौत हो चुकी है। लेकिन पटना में जिस तरह से आंकड़ों में सर्वे के बाद 88 प्रतिशत अंतर आया है उस हिसाब से प्रदेश में मौत का आंकड़ा लगभग 10 हजार होना चाहिए। हालांकि यह स्थिति पटना छोड़ अन्य जिलों के सत्यापन से ही साफ हो पाएगी।

मई में टूटा मौत का रिकॉर्ड

30 अप्रैल तक प्रदेश में कुल 2,560 लोगों की मौत हुई थी। इसमें अप्रैल में 989 मौत हुई, यह आंकड़ा 31 मई को 5,163 पहुंच गया। मई के 31 दिन में ही 2,521 लोगों की मौत हो गई, जो पिछले मार्च से अप्रैल तक की मौत के बराबर है।

मई के 31 दिन में 2,521 मौत

01 मई – 82

02 मई – 151

03 मई – 28

04 मई – 105

05 मई – 61

06 मई – 90

07 मई – 62

08 मई – 76

09 मई – 67

10 मई – 75

11 मई – 72

12 मई – 74

13 मई – 90

14 मई – 77

15 मई – 73

16 मई – 89

17 मई – 96

18 मई – 111

19 मई – 104

20 मई – 98

21 मई – 98

22 मई – 103

23 मई – 107

24 मई – 93

25 मई – 104

26 मई – 99

27 मई – 98

28 मई – 61

29 मई – 48

30 मई – 52

31 मई – 59

राज्य स्वास्थ्य समिति के पोर्टल पर मौत का आंकड़ा

अररिया – 74

अरवल – 56

औरंगाबाद – 39

बांका – 86

बेगूसराय – 136

भागलपुर – 266

भोजपुर – 105

बक्सर – 83

दरभंगा – 187

पूर्वी चंपारण – 129

गया – 186

गोपालगंज – 45

जमुई – 44

जहानाबाद – 66

कैमूर – 42

कटिहार – 48

खगड़िया – 44

किशनगंज – 418

लखीसराय – 105

मधेपुरा – 349

मधुबनी – 417

मुंगेर – 431

मुजफ्फरपुर – 324

नालंदा – 383

नवादा – 92

पटना – 1211

पूर्णिया – 68

रोहतास – 146

सहरसा – 40

समस्तीपुर – 104

सारण – 213

शेखपुरा – 39

शिवहर – 17

सीतामढ़ी – 85

सीवान – 147

सुपौल – 75

वैशाली – 128

पश्चिमी चंपारण – 327

loading...
loading...

Check Also

यात्रीगण कृपया ध्यान दें, दोबारा शुरू हो रही हैं ये स्पेशल ट्रेनें, रूट और टाइमटेबल जानें

Indian Railways, IRCTC:पूरे देश में कोरोना की दूसरी लहर अब थमती नजर आ रही है। ...