https://www.googletagmanager.com/gtag/js?id=UA-91096054-1">
Thursday , June 24 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / मौसम का अलर्ट: UP के 25 जिलों में बारिश व बिजली गिरने के साथ तेज हवाओं की संभावना

मौसम का अलर्ट: UP के 25 जिलों में बारिश व बिजली गिरने के साथ तेज हवाओं की संभावना

यास चक्रवात के बाद भी उत्तर प्रदेश में मौसम बदलने की संभावना और बरसात कम नहीं हो रही है। मौसम विभाग ने बरेली, बदायूं, रामपुर, पीलीभीत, शाहजहांपुर समेत पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 14 जिलों में बिजली और बरसात होने की संभावना जताई है। इसके साथ ही लखनऊ, बाराबंकी, गोंडा, लखीमपुर खीरी, सीतापुर और उन्नाव समेत 11 जिलों में बरसात, तेज हवाएं, बिजली गिरने की आशंका है। जिलाधिकारियों ने यूपी में मौसम को लेकर अलर्ट जारी किया है। वहीं, मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता बताते हैं कि मानसून उत्तर प्रदेश में 27-28 जून की बजाय, जुलाई के पहले या दूसरे सप्ताह में ही दस्तक देने के आसार हैं।

क्यों बदल रहा है मौसम
मौसम के जानकारों के मुताबिक, दक्षिणी-पश्चिमी मानसून का शेड्यूल लगभग हर जगह बदल सकता है। हालांकि, कुल बारिश उसी तरह से होने की संभावना है। जैसा कि पूर्व के अनुमान में जताया गया है। उन्होंने बताया कि समूचे उत्तर पश्चिमी भारत में प्री-मानसून की गतिविधियां शुरू हो गई हैं। पाकिस्तान की तरफ से एक पश्चिमी विक्षोभ भी सक्रिय है, जबकि उत्तर पश्चिमी राजस्थान और उसके साथी पंजाब के ऊपर ऊपरी हवा का चक्रवाती क्षेत्र बना हुआ है। वहां से एक अक्षीय रेखा दिल्ली के दक्षिण से होते हुए पूर्वी मध्य प्रदेश आ जा रही है। इसके अलावा हवा पूर्वी है और नमी बढ़ रही है। इससे बदलाव से बादल बनने में भी मदद मिल रही है, ऐसे में तेज हवा के साथ हल्की बारिश होने की संभावना भी बन रही है। उन्होंने बताया कि मौसम के इस बदलाव का असर पश्चिमी उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों में देखने को मिलेगा।

इन जिलों में जारी किया गया अलर्ट

  • पश्चिमी यूपी के 14 : मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता के अनुसार अगले कुछ घंटों में पश्चिमी यूपी के बरेली, बदायूं, रामपुर, पीलीभीत, शाहजहांपुर, मैनपुरी, एटा, फर्रुखाबाद, इटावा, औरैया, कन्नौज, जालौन, प्रयागराज संत रविदास नगर के आसपास जिलों में भारी बरसात के साथ मौसम बदलने की संभावना है।
  • अवध के 11 जिले : लखनऊ, बाराबंकी, गोंडा, श्रावस्ती, बहराइच, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, उन्नाव, हरदोई, गोंडा, बलरामपुर के आसपास बरसात होने की संभावना जताई गई है।

केरल पहुंचने के बाद ही मानसून का लगाया जा सकता है अनुमान
केरल में मानसून की दस्तक में विलंब होने से यूपी में भी इसका आगमन देरी से होने के आसार हैं। आंचलिक मौसम विज्ञान के निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि यूपी में मानसून आने का अनुमान केरल पहुंचने के बाद ही लगाया जा सकता है। यूपी में मानसून के 27-28 जून की बजाय जुलाई के पहले या दूसरे सप्ताह में दस्तक देने के आसार हैं। भारतीय मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार, अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती गतिविधियां शुरुआती दिनों में हो से ही मानसून को प्रभावित कर रही हैं। मानसून से पहले तूफान के प्रभाव से तटीय क्षेत्रों में हुई भारी बारिश की मानसून की सुव्यवस्थित प्रणाली के लिए अच्छी नहीं कही जा सकती है। केरल में मानसून की दस्तक में देरी होने से आगे की चक्र प्रभावित होगा।

मेरठ में आंधी व बारिश ने आम की फसल को पहुंचाया नुकसान
वहीं, रविवार देर रात शहर व देहात में अलग-अलग स्थानों पर बारिश हुई। आंधी व तेज हवाओं के साथ हुई बारिश ने वेस्ट यूपी में सबसे अधिक आम की फसल को नुकसान पहुंचाया है। मई माह में जाते-जाते बारिश के साथ आंधी ने सब्जी की फसल को भी नुकसान पहुंचाया है। आम के बागों से जुड़े व्यापारियों का कहना है कि इस बार आम की फसल पहले से ही कम है, उसके बाद आंधी नुकसान पहुंचा चुकी है। सोमवार देर रात अलग-अलग स्थानों पर बारिश हुई। शहर में तेज हवाओं के साथ बारिश ने गर्मी से तो राहत दी, लेकिन आंधी ने किसानों को नुकसान पहुंचाया। देहात इलाके में कंकरखेड़ा व जानी इलाके में ओले भी पड़े। मेरठ के अलावा बागपत, हापुड़, मुजफ्फरनगर, बुलंदशहर में भी अलग-अलग स्थानों पर तेज हवाओं के साथ बारिश हुई। आंधी से शहर में होर्डिंग्स गिरने के साथ बिजली के तारों को भी नुकसान हुआ। सब्जियों को हुआ नुकसान हुआ है। आम की फसल के अलावा भिंडी व बैंगन को भी आंधी से नुकसान हुआ है।

प्रयागराज: तेज हवाओं संग हुई झमाझम बारिश

सोमवार की सुबह से ही गर्मी और उमस से लोग बेहाल थे। मंगलवार भोर से ही मौसम में बदला। साढ़े छह बजे से अचानक आसमान में काले बादल उमड़ आए। इसके बाद शीतल हवा के साथ झमाझम बारिश शुरू हो गई। वहीं, बारिश की वजह से शहर में कई इलाकों में जलजमाव हो गया। कई इलाके जलमग्न हो गए। जलजमाव से निजात दिलाने के लिए नगर निगम की ओर से अभी तक कोई खास तैयारी नहीं की गई है। युद्धस्तर पर नालों की सफाई नही की गई तो मानसून में शहर के कई इलाके तैरते नजर आएंगे।

loading...
loading...

Check Also

दिल चीरने वाली घटना: जिस दिन हुई थी शादी, उसी दिन ही उठी दूल्हे की अर्थी

उत्तर प्रदेश के ललितपुर में एक अनोखा मामला सामने आया है। यहां एक युवक की ...