Sunday , June 13 2021
Breaking News
Home / खबर / प्राइवेट अस्पतालों के लिए वैक्सीन के दाम तय की सरकार, विदेशी स्पूतनिक से महंगी पड़ेगी देसी कोवैक्सीन!

प्राइवेट अस्पतालों के लिए वैक्सीन के दाम तय की सरकार, विदेशी स्पूतनिक से महंगी पड़ेगी देसी कोवैक्सीन!

नई दिल्‍ली :  प्राइवेट अस्‍पताल कोरोना वैक्सीन के लिए अनाप-शनाप कीमत नहीं वसूल सकेंगे। केंद्र सरकार ने इसका बंदोबस्‍त कर दिया है। उसने निजी अस्‍पतालों के लिए कोरोना वैक्‍सीन की कीमत तय कर दी है। इसके तहत प्राइवेट हॉस्पिटल कोविशील्‍ड के लिए 780 रुपये से ज्‍यादा नहीं ले सकेंगे। कोवैक्सिन की कीमत 1,410 रुपये तय की गई है। Sputnik V के लिए 1,145 रुपये की कीमत फिक्‍स की गई है। को-विन पोर्टल पर कोरोना वैक्सीन का रेट अपडेट किया जाएगा।

 

वैक्‍सीन वैक्‍सीन दाम/प्रति डोज ब्रेक-अप
कोविशील्ड 780 रुपये 600 रुपये वैक्सीन की कीमत+5% GST+ सर्विस चार्ज 150 रुपये
कोवैक्‍स‍िन 1410 रुपये 1200 रुपये कीमत+60 रुपये जीएसटी+150 रुपये सर्विस चार्ज
स्पूतनिक-V 1145 रुपये 948 रुपया वैक्सीन+47 रुपये जीएसटी+ 150 रुपये सर्विस चार्ज

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों को इस संबंध में जानकारी दी है। राज्यों से कहा गया है कि वे अपने-अपने यहां इस फैसले को अमल कराएं। निर्धारित रेट को लेकर हर रोज इसकी निगरानी की जाएगी। ज्यादा रेट वसूलने पर प्राइवेट कोविड वैक्सीनेशन सेंटर के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

पीएम ने द‍िया था फ्री वैक्‍सीन का तोहफा
राष्ट्र के नाम संबोधन में सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि पूरे देश में 18 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोगों के वैक्‍सीनेशन के लिए केंद्र सरकार 21 जून से राज्यों को फ्री टीके देगी। आने वाले दिनों में देश में टीकों की आपूर्ति बढ़ेगी। प्रधानमंत्री ने बताया था कि केंद्र ने टीका निर्माताओं से राज्य के 25 फीसदी कोटे समेत 75 फीसदी डोज खरीदने और इसे राज्य सरकारों को मुफ्त देने का फैसला किया है।

निजी अस्‍पतालों के ल‍िए यह की थी घोषणा
इसी के साथ प्रधानमंत्री ने घोषणा की थी कि देश में बन रहे टीके में से 25 फीसदी निजी क्षेत्र के अस्पताल सीधे ले पाएं, ये व्यवस्था जारी रहेगी। निजी अस्पताल वैक्सीन की निर्धारित कीमत के ऊपर एक डोज पर अधिकतम 150 रुपये ही सर्विस चार्ज ले सकेंगे। इसकी निगरानी करने का काम राज्य सरकारों के ही पास रहेगा।

मोदी ने टीके के बारे में लोगों से जागरूकता बढ़ाने का आह्वान किया था। उन्‍होंने कहा था कि कोरोना से बचाव के लिए टीका सुरक्षा कवच की तरह है। देश में सात कंपनियां वैक्‍सीन प्रोडक्शन पर काम कर रही हैं। तीन और टीकों के परीक्षण अग्रिम चरण में हैं। दूसरे देशों की कंपनियों से टीके हासिल करने की प्रक्रिया भी तेज की गई है।

loading...
loading...

Check Also

यात्रीगण कृपया ध्यान दें, दोबारा शुरू हो रही हैं ये स्पेशल ट्रेनें, रूट और टाइमटेबल जानें

Indian Railways, IRCTC:पूरे देश में कोरोना की दूसरी लहर अब थमती नजर आ रही है। ...