Monday , June 14 2021
Breaking News
Home / खबर / बिहार में कोरोना: पटना के अस्पतालों से दनादन निकली लाशें, खौफनाक हैं 24 घंटे के ये आंकड़े

बिहार में कोरोना: पटना के अस्पतालों से दनादन निकली लाशें, खौफनाक हैं 24 घंटे के ये आंकड़े

पटना
बिहार में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा भले ही तेजी से घट रहा हो और रिकवरी दर बढ़ रही हो, लेकिन मौत के मामलों में कमी नहीं आ रही है। राजधानी पटना के 3 बड़े अस्पतालों में बुधवार को 24 घंटे के अंदर कोरोना संक्रमित 8 लोगों की मौत हुई है। मरने वालों में पटना की एक 35 साल की युवती भी शामिल है। पटना की मृतक युवती की पहचान अनीसाबाद की रहने वाली 35 साल की रेहाना के रूप में हुई है।

मिली जानकारी के मुताबिक, अनीसाबाद की रहने वाली रेहना को 30 मई को NMCH में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान उनकी सेहत में सुधार नहीं हुआ और हालत बिगड़ती गई। बुधवार को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई है। बता दें, इस वक्त राजधानी पटना के तीन बड़े अस्पतालों पटना AIIMS, PMCH और NMCH में कोरोना संक्रमितों का इलाज चल रहा है।

PMCH में 2 युवती के साथ 4 की गई जान
बुधवार को 24 घंटे में 4 लोगों की जान गई है। इसमें दो युवतियां 28 साल की मुजफ्फरपुर की अनीता देवी और गोपालगंज की 35 साल की मंजू देवी शामिल है। दो अन्य मरने वालों में लखीसराय के 60 साल के गया महतो और भोजपुर के 50 साल के सुरेश महतो शामिल हैं। PMCH में बुधवार को कुल 11 संक्रमित भर्ती रहे। इसमें 3 नए मरीज शामिल हैं। ICU में 11 संक्रमितों को रखा गया है। बुधवार को 3 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया है। PMCH में पटना के 3 संक्रमित और अन्य जिलों के 8 संक्रमित भर्ती हैं।

पटना एम्स में 3 संक्रमितों की मौत
पटना एम्स में बुधवार को 24 घंटे में 3 संक्रमितों की मौत हुई है। इसमें सुपौल के 55 वर्षीय राम किशोर तिवारी, नालंदा के 51 साल के शंभू नाथ सिन्हा और वैशाली के 45 साल के धर्मेंद्र सिंह शामिल हैं। पटना एम्स में कुल 139 संक्रमित भर्ती हैं, इसमें 8 नए मरीज आए हैं। जबकि, 11 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया है।

बिहार में लॉकडाउन के बाद स्वस्थ होने वालों की संख्या में करीब 19 फीसदी की वृद्धि
बिहार में लॉकडाउन के बाद कोरोना संक्रमण की रफ्तार पर लगाम लगी है। माना जा रहा है कि यही कारण है कि सरकार संक्रमण दर में कमी और स्वस्थ होने वालों की दर की वृद्धि के बावजूद भी लॉकडाउन खत्म करने से बच रही है। लॉकडाउन के बाद राज्य में स्वस्थ होने की दर में वृद्धि देखी जा रही है। राज्य में कोरोना की दूसरी लहर में पहली बार पांच मई को राज्यभर में लॉकडाउन लगाया गया था। पांच मई को राज्य में कोरोना संक्रमितों के स्वस्थ होने की दर 78.38 दर्ज की गई थी जबकि 2 जून यह दर 97.25 प्रतिशत तक पहुंच गई। इस तरह देखें तो लॉकडाउन लगाए जाने के बाद स्वस्थ होने की दर में 18.87 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

loading...
loading...

Check Also

दिल्ली में कोरोना हुआ कंट्रोल: 24 घंटों में गिनती के नए केस, बहुत कम हुई मौत

नई दिल्ली:  दिल्ली (Delhi) में कोरोनावायरस (Coronavirus) संक्रमण की रफ्तार पर ब्रेक लगा है. पिछले 24 घंटों में कुल ...