Friday , July 30 2021
Breaking News
Home / खबर / बिहार: गया के दलितों पर अंधविश्वास हावी, 15 सालों से बनाए जा रहे ईसाई

बिहार: गया के दलितों पर अंधविश्वास हावी, 15 सालों से बनाए जा रहे ईसाई

गया: शहर से सटे नैली पंचायत के कई दलित बस्तियों में धर्म परिवर्तन (Religion Conversion) का खेल पिछले डेढ़ दशक से चल रहा है. ईटीवी भारत ने खबर की पड़ताल की तो पूरा खेल अंधविश्वास से जुड़ा मिला. किसी की तबीयत खराब हुई, पादरी ने पानी पिलाया तो लोगों ने धर्म परिवर्तन कर लिया. गांव और आसपास के सैकड़ों लोगों ने ईसाई धर्म अपना लिया है. मीडिया ने इस खबर को प्रकाशित किया. उसके बाद विश्व हिंदू परिषद के लोगों ने गया (Gaya) के इस गांव में पहुंच कर लोगों को समझाया. लेकिन वहां के लोग उनसे बात तक करने को तैयार नहीं हुए.

दरअसल, गया जिले के नैली पंचायत के दुबहल गांव से सटे कई दलित बस्तियों में पिछले 15 सालों से धर्म परिवर्तन का खेल जारी है. हिंदू धर्म को ईसाई धर्म में परिवर्तन करवाया जा रहा है. मीडिया ने जब ग्राउंड जीरो पर जाकर पूरी सच्चाई की पड़ताल की तो पता चला कि मामला अंधविश्वास और विश्वास से जुड़ा है. दरअसल धान रोपनी के पहले आषाढ़ी पूजा होती है. उस पूजा को मांझी समाज के लोग करते हैं. जब इस साल पूजा नहीं हो रही थी, तो अन्य समाज के लोगों ने इसके बारे में जानकारी ली. पता चला कि मांझी परिवार के लोगों ने ईसाई धर्म अपना लिया है.

मेरे ऊपर शैतान आता था. शैतान को भगाने के लिए हिन्दू धर्म के ओझा-गुनी के पास गए थे. हम लोगों ने 40 से 50 हजार खर्च किया. शैतान नहीं भागा. तब पादरी बोधगया के चर्च में ले गए. उन्होंने पूजा की. मेरे शरीर से शैतान भाग गया. उस वक्त से ईसाई धर्म अपनाए हुए हैं.’ -पार्वती देवी

‘इस बस्ती में 15 सालों से लोग ईसाई धर्म से जुड़े हैं. मेरे आस-पड़ोस में कई लोग सालों से ईसाई धर्म अपनाए हुए हैं. एक दिन मेरा बेटा बीमार हुआ. कहीं ठीक नहीं हो रहा था. चर्च गए पादरी ने प्रार्थना की और नीर छींटा तो ठीक हो गया. तब से मैं चर्च जाती हूं और ईसाई धर्म अपनाई हुई हूं.’ -सुमनी देवी

खबर पढ़ने के बाद विश्व हिंदू परिषद के सदस्यों ने दलित बस्तियों में जाकर लोगों को समझाने का प्रयास किया.

‘जो लोग हिंदू धर्म से ईसाई धर्म में परिवर्तन कर चुके हैं, उनकी घर वापसी के लिए कोई जोर जबरदस्ती नहीं की जाएगी. हम लोग सेवा भाव से और सरल स्वभाव से इन लोगों को हिंदू धर्म के बारे में समझाएंगे. इनकी मर्जी के अनुसार हिंदू धर्म में घर वापसी करवाएंगे. सनातन धर्म सबसे पुराना धर्म है. इस धर्म के बारे में लोग अंधविश्वास फैलाकर और अपने धर्म को अपनाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं. यह खेल कोई एक दिन का नहीं, वर्षों वर्षों से चलता आ रहा है. इस खेल का भंडाफोड़ भी हम लोग करेंगे. सरकार और जिला प्रशासन से अनुरोध है कि धर्मांतरण खेल का जल्द से जल्द उजागर करें, नहीं तो हम लोग इस पर भी आगे कार्रवाई करेंगे.’ -प्रेम नाथ, सदस्य, विश्व हिंदू परिषद

आपको बता दें कि जब सैकड़ों लोगों ने ईसाई धर्म को अपना लिया और इसका जब खुलासा हुआ तो दुबहल गांव में माहौल तनावपूर्ण बन गया. पुलिस इस माहौल को शांत करने के लिए लगातार गश्त कर रही है. सिटी एसपी से लेकर स्थानीय थाने की पुलिस हर दिन यहां आकर दौरा कर रही है. हालांकि इस मामले में अभी तक कोई भी आवेदन और एफआईआर दर्ज नहीं की गई है.

loading...

Check Also

‘मेंहदी लगा के रखना..’ गाने के अंग्रेजी वर्जन ने ‘देसी गर्ल’ को खूब हंसाया, आप भी देखें VIDEO

फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे’ का खुमार अभी तक लोगों के सर चढ़कर बोलता है. ...