Thursday , December 2 2021
Home / उत्तर प्रदेश / योगी की लगाई सील से मत घबराएं यूपी वाले, पहले ‘हॉटस्पॉट’ का असल मतलब समझें

योगी की लगाई सील से मत घबराएं यूपी वाले, पहले ‘हॉटस्पॉट’ का असल मतलब समझें

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने सूबे के 15 जिलों के हॉटस्पॉट्स को पूरी तरह से सील करने का फैसला किया है। कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए सरकार ने यह कदम उठाया है। इन 15 जिलों में राजधानी लखनऊ के साथ वे सभी जिले शामिल हैं जहां कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 6 से अधिक है। हालांकि यूपी सरकार ने इस फैसले के साथ ही नागरिकों की सुविधा को देखते हुए कई प्लान बनाए हैं, ताकि उन्हें परेशानी ना हो।

योगी सरकार ने आगरा, शामली, मेरठ, बरेली, कानपुर, वाराणसी, लखनऊ, बस्ती, गाजियाबाद, सहारनपुर, महाराजगंज, सीतापुर, बुलंदशहर, फिरोजाबाद और नोएडा के हॉटस्पॉट्स को सील करने का फैसला किया है। इस फैसले के बाद लोग बड़ी संख्या में दुकानों पर खरीदारी करने के निकल पड़े हैं। लेकिन सरकार का कहना है कि लोगों को परेशानी ना हो, इसके लिए पूरा प्लान तैयार कर लिया गया है।

इस दौरान किस तरह से लोगों को समान मिलेगा, कैसे बाकी काम होंगे, ये सारी खास बातें नीचे पढ़ें:

-सील किए गए इलाकों में पूरी तरह होम डिलीवरी होगी, स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी और डिलीवरी वाले कर्मचारी ही इन इलाकों में जा पाएंगे।
-15 जिलों में जो हॉटस्पॉट हैं, उसमें सभी में पूरी तरह से सख्ती की जाएगी, यानी यहां पर कम्प्लीट लॉकडाउन लागू करवाया जाएगा।
-इन इलाकों का कोई भी व्यक्ति ना ही यहां से बाहर जा पाएगा, और ना ही बाहर का कोई व्यक्ति इन इलाकों में एंट्री पा सकेगा, यानी पूरी तरह से आवाजाही रोकी जाएगी।
-सरकार ने इन जिलों के उन इलाकों को सील करने का फैसला किया है, जहां से तबलीगी जमात के लोग पकड़े गए हैं, या जहां पर कोरोना पॉजिटिव मरीजों को रखा गया है।
-इस दौरान फायर सर्विस की गाड़ियां इलाके को सेनेटाइज करेंगी।
-सील किए गए पूरे इलाके में बैरियर लगाए जाएंगे और मैजिस्ट्रेट के साथ पुलिस अधिकारी इलाके की निगरानी करेंगे।
-इन जिलों में जारी किए गए पासों की समीक्षा की जाएगी और अनावश्यक पासों को निरस्त किया जाएगा।
-इन जिलों के कोरोना प्रभावित इलाकों यानी हॉटस्पॉट्स की सभी दुकानों, मंडियों आदि को भी बंद किया जाएगा।
-चिन्हित स्‍थान पर मात्र पुलिस, स्‍वास्‍थ्‍य विभाग और सफाई कर्मी ही प्रवेश कर पाएंगे।
-हॉट स्‍पॉट क्षेत्र में मीडिया का प्रवेश भी संक्रमण की संभावनाओं को देखते हुए प्रतिबंधित रहेगा। लेकिन इन इलाकों में मीडियाकर्मी सहित आवश्‍यक सेवाओं से जुड़े जो लोग रहते हैं उनको वहां से काम पर जाने की अनुमति होगी।
-यहां ड्रोन कैमरों से निगरानी रखते हुए सेक्‍टर स्‍कीम कड़ाई से लागू किया जाएगा।
-इन इलाके में से यदि किसी को अस्‍पताल ले जाना हो तो उसे ऐम्‍बुलेंस वाहन से ले जाया जाएगा और किसी भी दशा में निजी वाहनों के प्रयोग की अनुमति नहीं दी जाएगी।

हालांकि सरकार के पूरी तरह से बात स्पष्ट करने के बाद भी कई तरह की अफवाह फैल गई है, जिसके चक्कर में लोग घरों में सामान जमा करने में जुट गए हैं। नोएडा, गाजियाबाद समेत 15 जिलों में किराने की दुकानों पर अचानक लोगों की लाइन लग गई है।

loading...

Check Also

क्या 7 दिन बाद MP में हो जाएगा अंधेरा ! रोजाना 68 हजार मीट्रिक टन खपत, सतपुड़ा पावर प्लांट के पास 7 दिन का स्टॉक

मध्य प्रदेश में कोयले का संकट गहराने लगा है. बात करें बैतूल के सतपुड़ा पावर ...