Thursday , October 21 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / 2 मीटर लंबाई…150 किलो वजन और उम्र 10 साल : नदी से निकलकर गांव की तरफ बढ़ा मगरमच्छ, पकड़ा गया

2 मीटर लंबाई…150 किलो वजन और उम्र 10 साल : नदी से निकलकर गांव की तरफ बढ़ा मगरमच्छ, पकड़ा गया

रामपुर के पटवाई और शाहबाद इलाके में पिछले 20 दिन से लोगों को डरा रहा मगरमच्छ आखिर पकड़ा गया। गुरुवार दोपहर मगरमच्छ नदी से निकलकर गांव की तरफ बढ़ने लगा। इससे ग्रामीणों में दहशत फैल गई। सूचना पर पहुंची वन विभाग की टीम ने जाल लगाकर ग्रामीणों की मदद से मगरमच्छ को पकड़ लिया।

यह मगरमच्छ सबसे पहले 6 सितंबर को रामपुर में रामगंग नदी के रायपुर किशनपुर घाट पर देखा गया था। तभी से इसे कभी पटवाई तो कभी शाहबाद थाना क्षेत्र में देखा जा रहा था। मगरमच्छ अक्सर नदी से बाहर निकल आता था। इसके बाद वह कुछ देर खेतों में रहता था और फिर वापस नदी में लौट जाता था। इससे ग्रामीणों में दहशत थी। मगरमच्छ के डर से नदी पारकर करके लोग खेतों पर नहीं जा पा रहे थे। खेतों पर जाने में भी डर लग रहा था।

मगरमच्छ गांव की तरफ बढ़ा तो कांप उठे लोग

गुरुवार को मगरमच्छ रामगंगा नदी से निकलकर पटवाई थाना क्षेत्र के गांव मथुरापुर की तरफ बढ़ने लगा। मगरमच्छ को गांव की तरफ आता देख लोग सहम गए। डर की वजह से कोई मगरमच्छ के पास नहीं पहुुंचने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था। लोगों ने बीच – बीच में अवरोध डालकर उसे गांव की तरफ बढ़ने से रोकने की कोशिश की। लेकिन मगरमच्छ के रास्ते को नहीं रोक सके।

वन विभाग ने ग्रामीणों की मदद से की घेराबंदी

DFO राजीव कुमार ने बताया कि कई दिन से मगरमच्छ की लगातार मॉनीटरिंग की जा रही थी। गुरुवार दोपहर में मगरमच्छ नदी से बाहर निकल आया। वह पटवाई के पास स्थित मथुरापुर गांव की तरफ बढ़ने लगा। इससे ग्रामीणों में दहशत फैल गई। मगरमच्छ काफी अंदर तक गांव में पहुंच गया था। सूचना मिलते ही टीम को मौके पर रवाना किया गया। DFO ने बताया कि ग्रामीणों की मदद से जाल लगाकर मगरमच्छ को पकड़ लिया गया।

2 मीटर लंबाई, 150 किलो वजन और उम्र 10 साल

DFO राजीव कुमार ने बताया कि मगरमच्छ काे सकुशल पकड़ा गया है। उसे कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। उन्होंने बताया कि पकड़े गए मगरमच्छ की लंबाई करीब 2 मीटर, वजन 150 किलो है। इस मगरमच्छ की आयु करीब 10 वर्ष होगी। DFO ने बताया कि मगरमच्छ को नदी में तेज बहाव वाले इलाके में ले जाकर छोड़ा जाएगा। फिलहाल उसे रामपुर में फॉरेस्ट रेंज में ले जाकर रखा गया है।

जाल में फंसते ही रस्सियों से बांधा

मगरमच्छ के जाल में फंसते ही वन विभाग की टीम ने ग्रामीणों की मदद से उसे रस्सियों से बांधा। सबसे पहले मगरमच्छ के मुंह को कसकर बांधा गया। इसके बाद उसे डंडों की मदद से कसकर बांधा गया। इस दौरान ग्रामीणों की सांसें थमी रहीं। पूरी ऑपरेशन में ग्रामीणों ने वन विभाग की टीम की पूरी मदद की।

loading...

Check Also

खूबसूरत जेलीफिश को देखने नजदीक जाना पड़ेगा महंगा, 160 फीट लंबी मूछों में भरा है जहर

लंदन (ईएमएस)। पुर्तगाली मैन ओवर नाम की जेलीफिश आजकल ब्रिटेन के समुद्र किनारे आतंक मचा ...