Sunday , May 16 2021
Breaking News
Home / ऑफबीट / 85 साल के कोरोना संक्रमित बुजुर्ग ने युवक के लिए छोड़ दिया बेड, कहा- मैंने जी ली अपनी जिंदगी

85 साल के कोरोना संक्रमित बुजुर्ग ने युवक के लिए छोड़ दिया बेड, कहा- मैंने जी ली अपनी जिंदगी

नागपुर . कोरोना की दूसरी लहर में जहां लोगों को बेड, ऑक्सीजन और जरूरी दवाएं नहीं मिल रही हैं, ऐसे में 85 साल के एक बुजुर्ग जान जाने से पहले जिंदादिली और मदद की ऐसी मिसाल पेश कर गए जिसे हर कोई याद रखेगा। महाराष्ट्र के नागपुर के नारायण भाऊराव दाभाडकर (85) अस्पताल में भर्ती थे। इस बीच वहां एक महिला 40 साल के अपने पति को लेकर अस्पताल पहुंची, लेकिन अस्पताल ने भर्ती करने से मना कर दिया क्योंकि बेड खाली नहीं था। महिला डॉक्टर्स के सामने गिड़गिड़ाने लगी।

यह देख दाभाडकर ने अपना बेड उस महिला के पति को देने के लिए अस्पताल प्रशासन से गुजारिश कर दी। उन्होंने कहा, ‘मैंने अपनी जिंदगी जी ली है। मेरी उम्र अब 85 साल है। इस महिला का पति युवा है। उस पर परिवार की जिम्मेदारी है। इसलिए उसे मेरा बेड दे दिया जाए।’

अस्पताल से लौटने के 3 दिन बाद निधन हो गया
दाभाडकर की गुजारिश को मानते हुए अस्पताल प्रशासन ने उनसे एक कागज पर लिखवाया, ‘मैं अपना बेड दूसरे मरीज के लिए स्वेच्छा से खाली कर रहा हूं।’ इसके बाद दाभाडकर घर लौट गए।लेकिन उनकी तबीयत बिगड़ती गई और 3 दिन बाद निधन हो गया।

दाभाडकर को कुछ दिन पहले कोरोना हुआ था। उनका ऑक्सीजन लेवल 60 तक गिर गया था। उनके दामाद और बेटी उन्हें इंदिरा गांधी शासकीय अस्पताल ले गए। वहां बड़ी मशक्कत के बाद बेड मिला। लेकिन ​​दाभाडकर अस्पताल से घर लौट आए ताकि एक युवा को बेड मिल सके।

बच्चों में चॉकलेट चाचा के नाम से मशहूर थे दाभाडकर
उनकी परिजन शिवानी दाणी-वखरे ने बताया कि दाभाडकर बच्चों में चॉकलेट बांटते थे। इसलिए बच्चे उन्हें चॉकलेट चाचा कहते थे। वही चॉकलेट की मिठास उनके जीवन में थी। इसीलिए अंतिम समय भी वे सेवा के यज्ञ में समिधा बने।

loading...
loading...

Check Also

हिसार में हंगामा: कोविड अस्‍पताल का फीता काटने पहुंचे CM खट्टर का विरोध किए किसान, DSP को पीटा

हिसार में रविवार को 500 बिस्तर की क्षमता वाले अस्थायी कोविड अस्पताल का उद्घाटन करने ...