Sunday , September 26 2021
Breaking News
Home / खबर / रांची में 5 दिनों में डबल हुए एक्टिव केस, क्या आ गई है कोरोना की थर्ड वेव?

रांची में 5 दिनों में डबल हुए एक्टिव केस, क्या आ गई है कोरोना की थर्ड वेव?

रांची :  क्या कोरोना की संभावित तीसरी लहर की शुरुआत तो नहीं? पिछले 5 दिनों में कोविड के एक्टिव मामले बढ़कर 52 से 102 हो चुके हैं। 9 से 15 अगस्त के बीच 86 संक्रमितों की पहचान हुई है। हेल्थ एक्सपर्ट बता रहे हैं कि अचानक बढ़ रहे मामले तीसरी लहर की शुरुआत हो सकती है। संभावना है कि 15 दिनोें में रोजाना मिलने वाले क्योंकि, लोग लापरवाही बरत रहे हैं। पब्लिक एरिया में काफी भीड़ है। कोरोना को लेकर जारी गाइडलाइन का पालन नहीं के बराबर हो रहा है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि अधिक संक्रमितों की पहचान के लिए आरटीपीसीआर पर जोर देने की जरूरत है। लेकिन, 55% मामलों में रैपिड एंटीजेन से ही जांच की जा रही है।

इसमें संक्रमितों की पहचान करने की क्षमता आरटीपीसीआर व ट्रूनेट के अपेक्षा काफी कम है। राजधानी में एक महीने में 60 हजार से ज्यादा सैंपलों की जांच हुई। इसमें 30 हजार के करीब सैंपल सिर्फ रैट टेस्ट से जांचे गए। इसमें 115 के करीब संक्रमित मिले। रेलवे स्टेशनों पर जांच के बाद पाॅजिटिव आने वाले कई रोगी दूसरे जिले के थे। इधर, कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच सदर अस्पताल में बने पीआईसीयू में एक 15 साल का संक्रमित बच्चा भर्ती है। अच्छी बात है कि रिम्स में पिछले चार दिनों से संक्रमित की संख्या शून्य है।

नए संक्रमितों के वायरस की वैरिएंट की जांच हो

इधर, एक्सपर्ट डॉक्टरों के अनुसार, रेलवे और एयरपोर्ट से यात्रा काफी बढ़ी है। दूसरे राज्यों से लगातार मरीज झारखंड आ रहे हैं। संक्रमितों के सैंपल की जीनोम सीक्वेंसिंग कराई जानी चाहिए। कोरोना के कई तरह के वैरिएंट आ चुके हैं। ऐसे में यहां कौन सा वेरिएंट है, इसकी जानकारी मिलने से उपचार और ट्रेसिंग में मदद मिलेगी। हो सकता है पिछले एक सप्ताह में मिलने वाले 86 संक्रमितों में कुछ संक्रमित डेल्टा प्लस या अन्य वेरिएंट के हो सकते हैं।

एक्टिव 102 में से 90 ज्यादा में लक्षण नहीं

मीडिया ने तीसरी लहर के संकेत को लेकर संक्रमित होने वालों से लक्षण से संबंधित जानकारी ली। बारी-बारी सभी एक्टिव रोगियों से बात की। इसमें 80 लोगों ने बताया कि उनमें किसी तरह के कोई लक्षण नहीं हैं। 53 लोगाें ने बताया कि बाहर से आने के दौरान जांच हुई और रिपोर्ट पॉजिटिव अा गई। सर्दी-खांसी और बुखार नहीं है। सांस की भी कोई समस्या नहीं है। इनमें से 6 लोगों में मामूली लक्षण दिखे। किसी को तीन दिन से बुखार है।

डॉ. देवेश ने कहा – कड़ाई से गाइडलाइन का पालन हो

रिम्स के कोविड टास्क फोर्स के सदस्य डॉ. देवेश कुमार ने कहा कि लंबे समय के बाद एक साथ 28 पॉजिटिव मामला मिलना आने वाली गंभीर स्थिति के संकेत हो सकते हैं। हालांकि जिस तरह से दूसरे राज्यों में मामले बढ़ रहे हैं, इसे संकेत समझे जा सकते हैं। दूसरी लहर के कम होने के बाद से लोगों में काफी लापरवाही बढ़ गई है। शारीरिक दूरी और सेनिटाइजर का इस्तेमाल लोग भूल चुके हैं। जिला प्रशासन को कड़ाई करते हुए कार्रवाई करने की जरूरत है।

आज जिले में 31 केंद्रों पर टीकाकरण, शहर के 20 सेंटर्स में लगेंगे 5390 डोज

एक बार फिर जिले में कोविड से बचाव का टीका कम पड़ रहा है। सोमवार को जहां 70 से ज्यादा केंद्र बनाए गए थे, वहीं मंगलवार के लिए जिले में 31 सेंटर्स पर वैक्सिनेशन की व्यवस्था की गई है। इसमें शहरी क्षेत्र के लिए 20 और ग्रामीण के लिए 11 केंद्रों पर टीकाकरण की व्यवस्था है। शहरी क्षेत्र के लिए 5390 डोज उपलब्ध कराए गए हैं, वहीं ग्रामीण क्षेत्र में सिर्फ 1140 डोज ही लगाए जाएंगे। सोमवार को कुल 16439 लोगों को वैक्सिनेट किया गया।

कोविड-19 टास्क फोर्स की बैठक…

एक सप्ताह में मिले संक्रमितों को आइसोलेशन सेंटर में भेजें : डीसी

डीसी छवि रंजन ने सोमवार को जिला स्तरीय कोविड-19 टास्क फोर्स की वर्चुअल बैठक की। उन्होंने संक्रमण की रोकथाम के लिए गठित विभिन्न कोषांगों के कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों को फटकार लगाते हुए कहा कि जब राज्य सरकार के निर्देशानुसार होम आइसोलेशन वर्जित है, तो उन्हें होम आइसोलेशन सेंटर में क्यों रहने की अनुमति दी जा रही है। जल्द पिछले सात िदनों में मिले संक्रमित को आइसोलेशन सेंटर में शिफ्ट कराएं। कहा कि सभी मरीजों की डिटेल सभी इंसिडेंट कमांडर को दी जाए, ताकि इंसीडेंट कमांडर उनकी निगरानी कर सके। सभी इंसिडेंट कमांडर ये सुनिश्चित करें कि कोई कोविड मरीज घर पर न हों।

डीसी का निर्देश… सैंपल कलेक्शन के दौरान पूरी जानकारी कलेक्ट करें : डीसी ने जांच की संख्या बढ़ाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि जिस व्यक्ति का सैंपल लिया जा रहा है, उसकी सभी आवश्यक जानकारी प्राप्त करें।

टीकाकरण की प्रशंसा… बैठक में टीकाकरण कार्य की समीक्षा करते हुए उपायुक्त ने पूरी टीम की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि जहां टीकाकरण के लिए ज्यादा संख्या में शिक्षक और छात्र हैं, वहां कैंप लगाकर वैक्सीनेशन कराएं।

loading...

Check Also

कानपुर : आपसे लक्ष्मी माता है नाराज, शिक्षिका से लाखों रुपए की टप्पेबाजी कर फरार हुए शातिर

तीन थानों की पुलिस फोर्स संग मौके पर पहुंचे एडीसीपी कानपुर  । शहर के सीसामाऊ ...