Monday , June 14 2021
Breaking News
Home / खबर / कोरोना को हराने वालों को ब्लैक फंगस के अलावा घेर रही ये बीमारी, 4 मरीजों के काटे गए पैर

कोरोना को हराने वालों को ब्लैक फंगस के अलावा घेर रही ये बीमारी, 4 मरीजों के काटे गए पैर

पटना. काेराेना से ठीक हुए मरीज यानी पाेस्ट काेविड मरीजाें काे ब्लैक फंगस के अलावा एक नई तरह की बीमारी हाे रही है। इसका नाम गैंग्रीन है। यह राेग अमूूमन पैर, हाथ, पैर के अंगुठे, पैर की अंगुलियाें और बांह में हाेता है। इसमें शरीर के इन हिस्साें में चमड़े का रंग बदल जाता है।

इसमें कालापन आ जाता है। इस राेग में खून का थक्का बन जाता है, जिससे जहां यह राेग हाेता है उस हिस्से में खून की सप्लाई बंद हाे जाती है। वहां का टिशु डेड हाे जाता है। हाई ब्लड शुगर लेवल वाले और जिनकी इम्युनिटी कम है, उनमें यह मर्ज हाेने की आशंका अधिक रहती है। फिलहाल एम्स में एक पू्र्व मुख्यमंत्री के परिजन समेत आधा दर्जन लाेगाें का इस बीमारी का इलाज चल रहा है। इनमें चार लाेगाें का ऑपरेशन हाे चुका है। राहत की बात यह है कि ऐसे मरीजाें की संख्या ज्यादा नहीं है। फिलहाल आईजीआईएमएस में इस राेग का एक भी मरीज नहीं आया है।

राेग के प्रमुख लक्षण

  • चमड़े का रंग बदल जाता है।
  • चमड़े का रंग काला, पर्पल, नीला या लाल में से काेई एक हाे जाता है।
  • चमड़ा पतला हाे जाता है।
  • छूने पर वहां का चमड़ा ठंडा लगता है।
  • हल्का बुखार आता है। तबीयत सुस्त लगती है।
  • सांस लेने में परेशानी होती है।
  • हार्ट बीट बढ़ जाता है।
  • जहां यह राेग हाेता है, वहां दर्द हाेता है।
  • सूजन हाे जाता है।
  • चमड़े से बाल खत्म हाे जाता है।

ऐसे हाेता है इसका इलाज

  • जिस हिस्से में गैंग्रीन हाेता है, उस हिस्से काे ऑपरेशन कर निकाल दिया जाता है।
  • कई तरह के एंटीबाॅयाेटिक चलते हैं।
  • ऑक्सीजन थेरेपी हाेती है, ताकि ब्लड काे ऑक्सीजन मिल सके।

एहतियात बरतें, इलाज संभव है

यह राेग पाेस्ट काेविड या वैसे लाेगाें काे हाे सकता है, जिसका शुगर लेवल हाई है। जिनकी इम्युनिटी कम है। हालांकि, इससे ग्रसित राेगियाें की तादाद कम है। लक्षण पाए जाने पर डाॅक्टराें काे दिखाना जरूरी है। एहतियात बरतें, इलाज संभव है। -डाॅ. उमेश कुमार भदानी, एम्स के डीन

गैंग्रीन में खून का थक्का बन जाता है, जिससे से ब्लड सप्लाई बंद हाे जाती है। जहां यह हाेता है, वहां ऑपरेशन कर निकाल दिया जाता है, ताकि यह आगे न बढ़ सके। -डाॅ. अनूप कुमार, हड्डी विभाग के हेड,एम्स

loading...
loading...

Check Also

2 करोड़: कोरोना से जंग में जान लड़ा दिया है गुजरात, हासिल किया बड़ा मुकाम

अहमदाबाद. प्रदेश में कोरोना से सुरक्षा कवच के रूप में रविवार को भी 234551 को ...