Wednesday , June 16 2021
Breaking News
Home / खबर / भूख हड़ताल पर बैठे भाजपा विधायक, बोले- ऑक्सीजन सप्लाई में भेदभाव कर रही गहलोत सरकार

भूख हड़ताल पर बैठे भाजपा विधायक, बोले- ऑक्सीजन सप्लाई में भेदभाव कर रही गहलोत सरकार

अजमेर. राजस्थान में ऑक्सीजन की किल्लत को लेकर आरोप प्रत्यारोप आम बात हो गई है, लेकिन ऑक्सीजन आपूर्ति में भेदभाव करने का आरोप लगाते हुए विधायक शंकरसिंह रावत ने भूख हड़ताल शुरू कर दी है। ब्यावर उपखंड अधिकारी कार्यालय के बाहर भूख हड़ताल पर बैठे रावत ने कहा कि ब्यावर में ऑक्सीजन की कमी से लोग मर रहे हैं, इस संबंध में प्रशासन को तीन दिन पहले अल्टीमेटम भी दिया गया, लेकिन कोई सुधार नहीं हुआ। विधायक रावत ने कहा कि ऑक्सीजन की कमी से जनता का मरना बर्दाश्त नहीं कर सकते। ऐसे में मजबूरन भूख हड़ताल पर बैठना पड़ा।

उन्होंने कहा कि जब तक मांगें पूरी नहीं होतीं, भूख हड़ताल जारी रखेंगे। अब यहां से उनकी लाश तो उठ सकती है, लेकिन वे नहीं। उन्होंने कहा कि ब्यावर में 140 मरीज भर्ती हैं। ऐसे में रोजाना 300 सिलेंडर मिलें और वेंटिलेटर को चालू किया जाए, ताकि भविष्य में लोगों की मौत नहीं हो। इस दौरान मौके पर कुछ समर्थक व पार्टी कार्यकर्ता तथा पुलिस भी मौजूद रही। दोपहर 1 बजे करीब उपखंड अधिकारी रामप्रकाश भी मौके पर पहुंचे और विधायक को भरोसा दिलाया कि सिलेंडर की संख्या बढ़ाई जा रही है और धीरे धीरे बढ़ा दी जाएगी। लेकिन रावत नहीं माने।

गौरतलब है कि शंकर सिंह रावत भाजपा से विधायक हैं। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है। रावत लगातार तीसरी बार विधायक बने हैं। रावत ने अपने पहले कार्यकाल में जल और जिले की मांग को लेकर जयपुर तक की पैदल यात्रा भी की थी। अजमेर जिले के केकड़ी से विधायक डॉ. रघु शर्मा वर्तमान सरकार में चिकित्सा मंत्री है।

विधायक की मांग

  • अजमेर में 1 मरीज पर 4 सिलेंडर मिल रहे हैं, जबकि ब्यावर में एक भी नहीं। अजमेर में कम नहीं करने हैं, लेकिन ब्यावर में सुधार किया जाए।
  • ब्यावर में वेंटिलेटर का उपयोग नहीं किया जा रहा है, इस कारण मौत हो रही। इनका उपयोग किया जाए, ताकि मरीजों की जान बच सके।
  • अमृतकौर चिकित्सालय ब्यावर में काफी समय से डॉक्टर्स को लगाने की मांग की जाती रही है, लेकिन सरकार कुछ नहीं कर रही। मरीजों को मरने के लिए छोड़ दिया है।
  • मरीज और परिजन दर दर भटक रहे हैं। कांग्रेस सरकार का चिकित्सा प्रबंधन फेल साबित हो रहा है। ऐसा अन्याय ब्यावर की जनता और वे खुद भी बर्दाश्त नहीं करेंगे।
  • ऐसा करने वाले अधिकारी समझ ले कि सरकार पांच साल के लिए होती है और समय सबका आता है। बीमारी में भेदभाव करना किसी भी सूरत में उचित नहीं।
loading...
loading...

Check Also

योगी के कोतवाल ने माइक पर पब्लिक को दी मां-बहन की गालियां, देखें वायरल VIDEO

लखनऊ। अपनी नौकरी का अधिकतम समय उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में बिताने वाले लोकप्रिय ...