Saturday , November 27 2021
Home / खबर / बॉलीवुड एक्टर इरफान खान वर्सोवा के कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-ख़ाक, सिर्फ परिवार के लोग रहे मौजूद

बॉलीवुड एक्टर इरफान खान वर्सोवा के कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-ख़ाक, सिर्फ परिवार के लोग रहे मौजूद

मुंबई। बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर इरफान खान का 53 साल की उम्र में निधन हो गया। वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे। एक दिन पहले मंगलवार को उन्हें कोकिला बेन अस्पताल के आईसीयू में शिफ्ट किया गया था। लॉकडाउन की वजह से इरफान खान के अंतिम संस्कार में परिवार और फिल्मी जगत की गिनी चुनी हस्तियां ही शामिल हुई। वर्सोवा के कब्रिस्तान में उन्हें सुपुर्द-ए-ख़ाक किया गया।

साल 2018 में इरफान खान को पता चला था कि वह न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर से पीड़ित है। इस बीमारी के इलाज के लिए इरफान खान लंदन भी गए थे और करीब साल भर इलाज कराने के बाद वह वापस भारत लौटे थे। न्यूरोएंडोक्राइन ऐसा ट्यूमर है जो आपके शरीर में पेट, डूयोडेनम (ग्रहणी), एपेंडिक्स, कोलोन और रेक्टम, पैंक्रियाज जैसे हिस्सों में हो सकता है। शरीर के इन हिस्सों में होने वाले कैंसर को न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर की कैटेगरी में रखा गया है।

किसने क्या कहा?
-पीएम मोदी ने लिखा कि इरफान खान के निधन से सिनेमा और थियेटर जगत को बड़ी क्षति हुई है। अलग-अलग माध्यमों में उनके शानदार काम के लिए उन्हें याद किया जाएगा। उनके परिवार, दोस्त और चाहने वालों को वह सांत्वना देते हैं। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।

-इरफान खान के फिल्म निर्माता-मित्र शूजित सरकार ने कहा, ‘मेरे प्रिय मित्र इरफान। आप लड़े और लड़े और लड़े। मुझे आप पर हमेशा गर्व रहेगा .. हम फिर से मिलेंगे .. सुतापा और बाबिल के प्रति संवेदना .. आपने भी लड़ाई लड़ी, सुतापा आपने इस लड़ाई में जीत के लिए हर संभव कोशिश की। शांति और ओम शांति। इरफान खान को सैल्यूट।’

-इरफान खान की मृत्यु पर बॉलीवुड के महानायकअमिताभ बच्चन ने कहा है, ‘मुझे अभी अभी ये दुख खबर मिली। यह एक परेशान करने वाली और दुखद खबर है। एक अविश्वसनीय प्रतिभा। एक महान सहयोगी। सिनेमा की दुनिया के लिए एक शानदार योगदानकर्ता। हमें बहुत जल्द छोड़ कर चला गया।’

-अक्षय कुमार ने ट्वीट किया, ‘ऐसी भयानक खबर। हमारे समय के सबसे बेहतरीन अभिनेताओं में से एक इरफान खान के निधन के बारे में सुनकर दुख हुआ। ईश्वर उनके परिवार को इस कठिन समय में शक्ति प्रदान करे।’

-बॉलीवुड अभिनेता परेश रावल ने इरफान खान की याद में ट्वीट करते हुए कहा कि ‘इरफान तुम्हारे जैसा कोई नहीं होगा।’

-फिल्म डायरेक्टर अनुभव सिन्हा ने लिखा, ‘अभी तो टाइम आया था तेरा मेरे भाई। अभी तो कितना काम करता तू जो इतिहास में लिखा जाता। क्या यार? थोड़ी ताक़त और लगाता भाई। पर लगाई तो होगी ही तूने सारी। ठीक है, जा। आराम कर। दो साल बहुत लड़ा तू। थक भी गया होगा। एक बार बैठना चाहिए था हम सारों को, दारू पीते। पर बैठते नहीं हम।

-अभिनेता अनुपम खेर ने कहा है, ‘एक प्रिय मित्र, बेहतरीन अभिनेताओं में से एक और एक अद्भुत इंसान। इरफान खान के निधन की खबर से ज्यादा हृदयविदारक और दुखद कुछ नहीं हो सकता। दुखद दिन !! उनकी आत्मा को शांति मिले।’

-कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा, ‘मुझे इरफान खान के निधन की खबर सुनकर बुरा लगा। वह काफी प्रतिभावान ऐक्टर थे। वह भारतीय फिल्म जगत के ऐसे कलाकार थे जो दुनियाभर में मशहूर थे। उन्हें बहुत याद किया जाएगा। उनके परिवार, दोस्तों और फैंस तो मेरी सांत्वना।’

-दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, ‘इरफान खान के निधन के मारे में सुनकर झटका लगा। वह हमारे वक्त के सबसे असाधारण ऐक्टर्स में से एक थे। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे। उनके काम को हमेशा याद रखा जाए।’

-राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया ने कहा, इरफान खान के निधन का दुख है। शानदार अभिनेता होने के साथ-साथ वह रिसर्जेंट राजस्थान का चेहरा भी थे। आज दुनिया के फिल्म जगत ने टैलंट का पावरहाउस खो दिया। उनकी याद आएगी।’

जयपुर में हुआ था इरफान का जन्म
इरफान का जन्म 7 जनवरी 1967 को जयपुर में हुआ था। इरफान का पूरा नाम साहबजादे इरफान अली खान है। उनका जन्म एक पठान मुस्लिम ​परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम जागीरदार खान था। वे टायर का व्यापार करते थे। आपको जानकर शायद हैरानी हो कि पठान मुस्लिम परिवार में जन्म होने के बाद भी उन्होंने कभी मांस नहीं खाया। वे बचपन से शाकाहारी थे। उनकी इस आदत पर उनके पिता हमेशा कहते कि पठान परिवार में ब्राह्मण पैदा हो गया। एक्टर ने 23 फरवरी 1995 को अपनी क्लासमेट सुतापा सिकदर से शादी की थी। सुतापा ने हर कदम पर इरफान का साथ दिया। इरफान ने जब सुतापा सिकदर से शादी का फैसला किया तो वो उनके लिए धर्म बदलने के लिए भी तैयार हो गए थे लेकिन सुतापा के घरवाले दोनों की शादी के लिए तैयार हो गए, जिसके बाद इरफान को धर्म बदलने की जरूरत नहीं पड़ी।

संघर्ष भरा रहा इरफान का शुरुआती दौर
इरफान खान का शुरुआती दौर संघर्षों से भरा था। जब उनका एनएसडी में प्रवेश हुआ, उन्हीं दिनों उनके पिता की मृत्यु हो गई। पिता की मृत्यु की वजह से उन्हें घर में पैसे मिलना भी बंद हो गए। एनएसडी से मिलने वाली फेलोशिप के जरिए उन्होंने अपना कोर्स खत्म किया। इरफान खान ने अपनी करियर की शुरुआत टेलीविजन से की थी, जिसके बाद वह 1998 में फिल्मों में आए। अपने फिल्मी ​कॅरियर में इरफान बॉलीवुड के साथ-साथ हॉलीवुड में भी सक्रिय रहें। उन्होंने हॉलीवुड की ‘स्पाइडर मैन’, ‘जुरासिक वर्ल्ड’ और ‘इन्फर्नो’ जैसी फिल्मों में काम किया। उनकी अदाकारी देखकर हॉलीवुड अभिनेता टॉम हैंक्स ने उनकी सराहना की थी और कहा था कि सिर्फ इरफान ही नहीं उनकी आंखें भी अभिनय करती हैं।

इरफान को ने जीते कई अवॉर्ड
इरफान ने पहली बार 2005 में आई फिल्म ‘रोग’ में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। फिल्म ‘हासिल’ के लिए इरफान खान को उस साल का ‘बेस्ट विलेन’ का फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला। उसके बाद इरफान ने ‘लंचबॉक्स’, ‘गुंडे’, ‘हैदर’, ‘पीकू’ और ‘हिंदी मीडियम’ जैसी बेहतरीन फिल्मों में काम किया। जिसके लिए उन्हें कई अवॉर्ड से नवाजा गया। फिल्म ‘पान सिंह तोमर’ के लिए उन्हें नेशनल अवॉर्ड से भी नवाजा गया। साल 2011 में उन्हें भारत सरकार की तरफ से पद्मश्री से सम्मा​नित किया गया। उनकी आखिरी फिल्म अंग्रेजी मीडियम थी जो 13 मार्च 2020 को रिलीज हुई थी।

loading...

Check Also

पेट्रोल-डीजल की कमी के बाद अब इस देश में अंडरवियर्स और पजामे की भारी किल्लत

लंदन (ईएमएस)।आपकों जानकार हैरानी होगी कि यूके में इन दिनों अंडरवियर्स और पजामे की भारी ...