BREAKING NEWS: राज्य में राष्ट्रपति शासन की संभावना

मुंबई: सूबे की सियासत से एक और बड़ी खबर सामने आ रही है. राज्य में राष्ट्रपति शासन का सामना करने की आशंका है। यदि राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति बिगड़ती है, तो राष्ट्रपति शासन की संभावना है। विधायकों के दफ्तरों और घरों पर हमले हो रहे हैं. सूत्रों ने कहा कि अगर ऐसी ही तस्वीर बनी रहती है तो राज्यपाल राष्ट्रपति शासन लगाने पर विचार कर सकते हैं।

शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे की बगावत ने राज्य की राजनीति में नया भूचाल ला दिया है. महाविकासगढ़ी सरकार गिरने की संभावना है। एकनाथ शिंदे के साथ करीब 50 विधायक हैं। इसलिए महाविकासघडी की सरकार खतरे में है।

ठाकरे सरकार बचाने की कोशिश कर रहे हैं. पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे बैठक कर रहे हैं। वहीं, सूत्रों का कहना है कि एकनाथ शिंदे की मुलाकात देवेंद्र फडणवीस से गुजरात में हुई थी। बैठक कल रात हुई थी। इस संबंध में अत्यधिक गोपनीयता बरती गई। 

एकनाथ शिंदे की क्या भूमिका होगी यह राज्य की राजनीति की अगली दिशा होगी। साथ ही राष्ट्रपति शासन की संभावना पर भी विचार किया जा रहा है।

बागी विधायकों के खिलाफ शिवसैनिक आक्रामक हो गए हैं। उनके कार्यालय में तोड़फोड़ की जा रही है. कई जगह विधायकों के बैनर फाड़े गए। कहीं-कहीं उनकी फोटो को कलंकित किया गया है।

शिंदे समूह की ओर से आज पहली बार प्रेस कांफ्रेंस की गई। इस दौरान दीपक केसरकर ने इस पर नाराजगी जताई।