Sunday , June 13 2021
Breaking News
Home / खबर / गुजरात सरकार का दावा- कोरोना से 3,578 मौतें; हकीकत- अहमदाबाद के एक अस्पताल में ही 3,416 मौत

गुजरात सरकार का दावा- कोरोना से 3,578 मौतें; हकीकत- अहमदाबाद के एक अस्पताल में ही 3,416 मौत

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान अहमदाबाद समेत पूरे राज्य में शवों के ढेर लगे रहे। इस भयावहता को गुजरात सहित पूरे देश ने देखा। इसके बावजूद सरकारी आंकड़ों में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा बहुत कम बताया गया है। गुजरात के महानगर अहमदाबाद की ही बात करें तो यहां के 1,200 बेड वाले सिविल कोविड अस्पताल में प्रतिदिन इतनी मौतें हुईं कि इसका आंकड़ा पूरे गुजरात में रोजाना होने वाली मौतों (सरकारी आंकड़ों के हिसाब से) से ज्यादा था।

गुजरात सरकार के झूठ का पर्दाफाश करने के लिए मीडिया टीम ने सिविल अस्पताल में 10 अप्रैल से 9 मई तक रोजाना होने वाली मौतों के आंकड़े हासिल किए। इन आंकड़ों का कहीं और खुलासा नहीं किया गया है। मीडिया को मिले डेटा के अनुसार इस दौरान (10 अप्रैल से 9 मई) सिविल कोविड अस्पताल में 3,416 मौतें हुईं, जबकि सरकारी आंकड़ों में अहमदाबाद में सिर्फ 698 और पूरे गुजरात में 3,578 संख्या ही बताई गई।

मीडिया ने पूरे महीने की डिटेल बारीकी से खंगाली तो पता चला कि मृतकों की एक पूरी शीट थी, जिसमें मृतक का नाम, उसका फोन नंबर, एडमिशन की तारीख, मौत की तारीख और मौत का कारण लिखा गया था। यह शीट रोजाना सुबह 8 बजे से अगले दिन सुबह 8 बजे तक अपडेट की जाती थी। इसके बाद शीट में अगली तारीख डाल दी जाती थी।

30 में से 12 दिन सबसे ज्यादा मौतें हुईं
सिविल अस्पताल की शीट की जांच में पता चला कि 10 अप्रैल से 9 मई के दौरान 11 दिन तो ऐसे थे, जब सिविल में रोजाना होने वाली मौतों का आंकड़ा पूरे राज्य में रोजाना हो रही आंकड़ों से ज्यादा था। इससे साफ है कि राज्य सरकार ने मौतों के आंकड़े छिपाए।

हाईकोर्ट में भी गलत आंकड़े पेश किए गए
राज्य में कोरोना की भयावह स्थिति के चलते गुजरात हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को फटकार लगाई थी। एक जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस विक्रमनाथ और जस्टिस भार्गव कारिया की पीठ ने सरकार से पूछा था कि राज्य में होने वाली मौतों का आंकड़ा छिपाया जा रहा है। उस दौरान भी इसे लेकर गुजरात सरकार द्वारा शपथ-पत्र पेश किया गया था, जिसमें भी यही आधिकारिक आंकड़े दिखाए गए थे। इससे साफ है कि कोर्ट में भी राज्य सरकार ने गलत आंकड़े पेश किए।

100 मरीजों से बात की
पड़ताल के दौरान मीडिया ने 10 अप्रैल से 9 मई के बीच मरने वाले 100 मरीजों के परिवार वालों से फोन पर बातचीत की। मीडिया के पास इन सभी की रिकॉर्डिंग भी है। इनमें से अधिकतर मरीजों के परिजनों ने बताया कि उनके परिजनों को कोरोना के गंभीर संक्रमण के बाद सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां इनका कोरोना का ही इलाज हुआ, लेकिन मौत के बाद अस्पताल द्वारा मौत का कारण कोरोना नहीं बताया गया। वहीं, कई मरीज ऐसे थे, जिनकी मौत का कारण अन्य बीमारियां लिख दी गईं।

कोरोना पेशेंट को सस्पेक्टेड बताकर मौतों का आंकड़ा छिपाया
सिविल अस्पताल से मिली शीट की जांच करने पर पता चला कि इसके आखिरी बॉक्स में मौत के कारण का जिक्र है, लेकिन 90 फीसदी से ज्यादा मौतों के मामले में इस शीट में कोई कारण ही नहीं लिखा गया था। इतना ही नहीं, शव सौंपे जाने पर मरीज के रिश्तेदार को दिए गए डेथ नोट में भी मौत के सही कारणों का खुलासा नहीं किया गया है। कुछ मामलों में, को-मर्बिडिटी लिखकर छोड़ दिया गया है। इसके अलावा कई मरीज ऐसे भी थे, जिनकी कोरोना के इलाज के दौरान ही मौत हुई, लेकिन अचानक उनकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव बताते हुए हार्ट-अटैक या किडनी फेल जैसे कारण लिख दिए गए हैं।

loading...
loading...

Check Also

यात्रीगण कृपया ध्यान दें, दोबारा शुरू हो रही हैं ये स्पेशल ट्रेनें, रूट और टाइमटेबल जानें

Indian Railways, IRCTC:पूरे देश में कोरोना की दूसरी लहर अब थमती नजर आ रही है। ...