Monday , October 18 2021
Breaking News
Home / ऑफबीट / द्रोपदी और युधिष्ठिर को जब ऐसे देखे अर्जुन, जानें फिर क्या हुआ..?

द्रोपदी और युधिष्ठिर को जब ऐसे देखे अर्जुन, जानें फिर क्या हुआ..?

चाणक्य नीति के अनुसार महिलाये ही सभी सुखो और दुखो का मूल है | स्त्री मनुष्य को जन्म देती है | स्त्री मनुष्य के जीवन की संगिनी है | इसलिए नारी का जीवन मे एक अलग ही स्थान है | लेकिन यह बात भी सत्य है की भारत के सबसे भयंकर युद्धों में ( रामायण, महाभारत ) नारी ही वजह रही है | महाभारत में यदि द्रोपदी ने दुर्योधन का अपमान ना किया होता तो शायद महाभारत का युद्ध भी ना हुआ होता | आज हम आपको द्रोपदी के जीवन से जिंदा हुआ ऐसा रहस्य बताने जा रहे है जो बहुत ही कम लोगो को पता है |
महाभारत की रचना महर्षि वेदव्यास ने की थी | महाभारत में वेदव्यास जी का उतना ही योगदान है जितना की आचार्य द्रोण का | यह कहानी उस समय से शुरू होती है जब अर्जुन ने द्रोपदी स्वयंवर जीता था | उस समय भीम की गलती की वजह से द्रोपदी को 5 पांडवो की पत्नी बनकर रहना पड़ा था | उस समय महर्षि व्यास ने पांडवो के लिए एक नियम बनाया था | जिसके मुताबिक एक समय में एक पांडव ही द्रोपदी के साथ रह सकता था | यदि सीधे शब्दों में कहा जाए तो एक समय में एक पांडव ही द्रोपदी के साथ सहवास कर सकता था | यदि कोई पांडव नियम तोड़ता है तो उसे 12 वर्ष का वनवास झेलना पड़ेगा | यह कठोर नियम वेदव्यास जी ने बनाया था|
द्रोपदी के साथ सहवास के लिए हर पांडव के लिए विशेष दिन निर्धारित किया गया था | पांडवो के वनवास में रहते एक दिन युधिष्ठिर द्रोपदी के साथ कुटिया में बैठा था | ऐसा कहा जाता है की चारो पांडव कुटिया के बाहर बैठे थे | उस समय अचानक से डाकुओ की आवाज आने लगी | डाकू स्त्रियों का अपहरण कर ले जा रहे थे | लेकिन जिस कुटिया में द्रोपदी और युधिष्ठिर थे उसी कुटिया में सारे हथियार रखे हुए थे | जिससे अर्जुन काफी दुविधा में पड़ गया | यदि वह अंदर जाता है तो वेद व्यास जी के द्वारा बनाये गए नियमो का उलंघन होता है |
लेकिन लुटेरों से महिलाओ और गायों को भी बचाना जरुरी था | इसलिए अर्जुन चुपके से दरवाजा खोलकर अंदर घूस गया | इसके पश्चात् उसने अपना गांडीव धनुष उठाया और डाकूओ का पीछा किया | उसने डाकुओ को युद्ध में हराया और स्त्रिओं और धन की उनसे रक्षा की और वापस अपनी कुटिया में लोट आया |
वहां सारे पांडव एकत्रित हुए | जहां अर्जुन ने अपने द्वारा किये गए अपराध के बारे में सबको बताया | इसलिए अब नियमो के मुताबिक उसे 12 वर्ष तक पांडवो और राज्य से दूर रहना था | लेकिन युधिष्ठिर ने कहा की विषम परिस्थितयों में एक वर्ष की तुलना एक वर्ष से की जा सकती है | इसलिए युधिष्ठिर ने 12 दिनों तक अर्जुन को अपने से अलग रहने का आदेश दिया | जिससे धर्म की मर्यादा भी भंग नहीं हुई और अर्जुन को दंड भी मिल गया |
कुछ दंत कथाओ में कहा जाता है की इन 12 दिनों में अर्जुन ने देवलोक की यात्रा की थी | जब उसके 12 दिन पुरे हुए तब वापस आ गया था | जबकि कुछ ग्रंथो में लिखा है की इन 12 दिनों तक अर्जुन ने अलग कुटिया बनाई थी और वही रहने लगा था | इनमे अधिकांशतः इतिहासकार अर्जुन की देवलोक गमन की बात का ही समर्थन करते है |
loading...

Check Also

2 अक्टूबर 2021 का राशिफल : आज इन राशियों की बढ़ेगी आमदनी, जानिए अपनी राशि का हाल…

कैसा रहेगा आपका पूरा दिन ? पढ़ाई, प्रेम, विवाह, व्यापार जैसे मोर्चों पर कैसी रहेगी ...