https://www.googletagmanager.com/gtag/js?id=UA-91096054-1">
Thursday , June 24 2021
Breaking News
Home / खबर / ऑनलाइन पंडिताई: शादी से लेकर मुंडन, अंतिम संस्कार से लेकर जप अनुष्ठान, जानें सबके दाम

ऑनलाइन पंडिताई: शादी से लेकर मुंडन, अंतिम संस्कार से लेकर जप अनुष्ठान, जानें सबके दाम

जयपुर।  कोरोना का ग्रहण पंडित और पुजारियों की कमाई पर भी लगा है। मगर टेक्नोलॉजी और सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने वाले पंडित घर बैठे ही विवाह से लेकर अंतिम संस्कार तक ऑनलाइन करा रहे हैं। हर काम के लिए पैकेज भी फिक्स है। ऑनलाइन विवाह के लिए 15000-21000 रुपए तक और अंतिम संस्कार के लिए करीब 31 हजार रुपए का रेट है।

पंडित दिनेश मिश्रा कहते हैं कि किस प्रकार का अनुष्ठान है, कौन सा अनुष्ठान है, कितने जप और कितने दिन का है उसके अनुसार भी पैकेज दिया जाता है। जप अनुष्ठान के लिए कम से कम 25 हजार से एक लाख रुपए तक जजमान देने को तैयार हो जाता है। हालांकि, टेक्नोलॉजी न जानने वालों को दिक्कत हो रही है।

अग्निदाह से 13वीं तक की रस्म का पैकेज
अंतिम संस्कार के कर्मकांड कराने वाले पं श्यामसुंदर जोशी, पं महेश जोशी, पं सुरेंद्र जोशी बताते हैं कि दाह संस्कार से लेकर सभी रस्में द्वादश परिजन तक मतलब 12वें और 13वीं की रस्म तक 8000 से ₹13000 और ₹15000 तक लेते हैं ।

ऑनलाइन सुविधा देने वाले 1500 पंडित
जयपुर में पूजन पाठ से अपनी आजीविका चलाने वाले पंडितों की अनुमानित संख्या कम से कम 35000 है। इनमें से केवल 1500 पंडित है जो अपने जजमान को ऑनलाइन विभिन्न संस्कार और जप अनुष्ठान करा कर अपनी आजीविका चला रहे हैं।

आधुनिक टेक्नोलॉजी नहीं जानने वाले पंडितों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हुआ
90 वर्षीय पंडित राम अवतार मिश्र कहते हैं कि सभी पंडितों के पास आधुनिक टेक्नोलॉजी लैपटॉप और टैबलेट की सुविधा नहीं है। ऐसे साधारण पंडित ज्यादा हैं। कई बुजुर्ग पंडितों को आधुनिक तकनीक का ज्ञान नहीं है। वे सोशल मीडिया या वीडियो एप्स का इस्तेमाल नहीं कर पाते। सरकार की ओर से 30 जून तक शादी समारोह और सभी धार्मिक अनुष्ठान बंद होने के कारण ऐसे पंडितों के सामने रोजी रोटी का संकट हो गया है।

जजमान के घर जाकर कोई भी धार्मिक अनुष्ठान संपन्न करवाने पर फल, प्रसाद दान दक्षिणा प्राप्त हो जाती थी। ऐसे पंडित वर्ग जो कर्मकांड और धार्मिक अनुष्ठान पूजा-पाठ पर ही निर्भर हैं उनके सामने वर्तमान में बच्चों की फीस, घर का राशन, बिजली का बिल, गैस आदि जुटाने की परेशानी हो गई है। न तो सरकार की तरफ से और ना ही कहीं अन्य से कोई सहायता अनुदान मिल रहा है।

यहां ऑनलाइन शादियां भी कराई जाती हैं…

विवाह संस्कार-15000-21000 रु. मुंडन संस्कार- 2100-5100 रु. यज्ञोपवीत संस्कार- 8000-11000 रु. सीमांत पूजन, 8वां पूजन- 3100-5100 रु. गृह प्रवेश- 15000-31000 रु. जप अनुष्ठान- 25000-1 लाख रु.

loading...
loading...

Check Also

चीन का गुनाह: कोरोना के शुरुआती मरीजों का डिलीट किया डेटा, ताकि कुछ न जाने दुनिया!

कोरोना वायरस के स्रोत को लेकर घिरे चीन और उसकी वुहान लैब के बारे में ...