IND vs IRE: भुवनेश्वर कुमार ने फेंकी 208 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद! भारत-आयरलैंड मैच में हुआ चमत्कार

भारत और आयरलैंड (IRE vs IND) के बीच पहले T20 (T20 क्रिकेट) मैच में हुई इस घटना की विश्व क्रिकेट में काफी बहस हुई थी। अगर उमरान मलिक ऐसा करते हैं तो समझ में आता है क्योंकि उनकी ताकत तेज गेंदबाजी करने की है। लेकिन भारत और आयरलैंड के बीच पहले टी20 में सबसे तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार थे । स्पीडोमीटर ने भुवी की गेंद की गति 208 किमी प्रति घंटे मापी। अब इतनी तेज गेंद उमरान मलिक पाकिस्तान के दिग्गज क्रिकेटर शोएब अख्तर के नाम बने वर्ल्ड रिकॉर्ड से भी बड़ी है. लेकिन सच्चाई यह है कि इसमें तकनीकी खामियां हैं।

आयरलैंड के खिलाफ पहले टी20 में भुवनेश्वर कुमार को स्पीडोमीटर द्वारा सबसे तेज गेंदबाज घोषित किया गया था। उन्होंने पारी के दौरान अपनी पहली गेंद की गति 201 किमी प्रति घंटे मापी। इसके बाद भुवी द्वारा फेंकी गई दूसरी गेंद की रफ्तार 208 किमी प्रति घंटे बताई जा रही है. उमरान की रफ़्तार देखने के लिए क्रिकेट फैन्स बेताब थे. लेकिन स्पीडोमीटर उसे भुवनेश्वर की रफ्तार बता रहा था। पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर के नाम 161.3 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से विश्व क्रिकेट में सबसे तेज गेंद डालने का रिकॉर्ड है। लेकिन भविष्य की मापी गई गति उससे कहीं अधिक थी।

भुवनेश्वर कुमार की 208 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से सभी को किया नाराज

भुवनेश्वर कुमार गेंदबाजी में स्विंग के उस्ताद हैं। उनके पास कभी भी सबसे तेज गेंद फेंकने की ताकत नहीं थी। उनकी गेंद सिर्फ 130 किमी प्रति घंटे से 145 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से अद्भुत है। ऐसे में साफ है कि आयरलैंड के खिलाफ पहले टी20 में क्या दिखाया गया था. यह सिर्फ तकनीक का दोष है और कुछ नहीं। हालांकि इस तकनीकी खामी ने भारतीय फैंस को एक पल के लिए हैरान करने पर मजबूर कर दिया है।

भुवनेश्वर कुमार की गेंदबाजी में अधिक गति तकनीकी समस्या

खास बात यह है कि विश्व क्रिकेट में ऐसा पहली बार नहीं हुआ है। स्पीडोमीटर की खराबी के कारण अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट या दुनिया भर की टी20 लीग में गेंदबाजों की गति से समझौता किया गया है। आयरलैंड में भविष्य के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। आयरलैंड के खिलाफ पहले टी20 में भुवनेश्वर ने 3 ओवर में 16 रन देकर 1 विकेट लिया।