Saturday , November 27 2021
Home / उत्तर प्रदेश / कोरोना के खिलाफ जंग जारी, लॉकडाउन-2 की तैयारी, सिर्फ इन उद्योगों को खुलने की मंजूरी

कोरोना के खिलाफ जंग जारी, लॉकडाउन-2 की तैयारी, सिर्फ इन उद्योगों को खुलने की मंजूरी

कोरोना वायरस ( coronavirus ) का प्रकोप पूरे देश में तेजी से फैलता जा रहा है। 7900 से ज्यादा लोग इस खतरनाक वायरस से संक्रमित हो चुके हैं, जबकि अब तक 309 लोगों की मौत हो गई है। इस वायरस को रोकने के लिए देश में 21 दिनों का लॉकडाउन लगाया गया है। इसके बावजूद कोरोना संक्रमितों का आंकड़ लगातार बढ़ रहा है। लिहाजा, केन्द्र सरकार लॉकडाउन ( Lockdown ) की अवधि को बढ़ाने की तैयारी मे है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, मोदी सरकार (Modi Government ) दो हफ्ते और लॉकडाउन को बढ़ा सकती है। इसकी घोषणा सोमवार या मंगलवार तक हो सकती है। हालांकि, कहा जा रहा है कि लॉकडाउन पार्ट-2 में सरकार कुछ रियायत दे सकती है। इधर, सरकार ने कुछ शर्तों के साथ 15 प्रकार के उद्योगों को काम शुरू करने की मंजूरी दे दी है।

दरअसल, मुख्यमंत्रियों के साथ-साथ केंद्रीय मंत्रियों की ओर से भी प्रधानमंत्री को कुछ उद्योगों को शुरू करने का सुझाव दिया गया। मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों का कहना है कि कुछ उद्योगों को आंशिक रूप से लॉकडाउन में छूट मिलनी चाहिए। इन सभी विचारों को देखते हुए और संबंधित विभागों की राय पर सरकार ने 15 तरह के उद्योगों को न्यूनतम कर्मचारियों के साथ एक शिफ्ट में काम शुरू करने की अनुमति दे दी है।

कैबिनेट मंत्रियों की ओर से सुझाव आया है कि सड़क निर्माण, आवश्यक वस्तुओं के निर्माण से जुड़े उद्योगों को पहले चरण में उत्पादन शुरू करने की इजाजत दी जा सकती है। अगर कोई उद्योग कोरोना प्रसार से बचते हुए औद्योगिक गतिविधि को शुरू करने का ब्लू प्रिंट देता है, तो उसे भी मंजूरी दी जा सकती है। लेकिन उसे यह बताना होगा कि बीमारी से बचने और किसी संक्रमण की स्थिति में इलाज के लिए क्या प्रबंध है? बताया जा रहा है कि कुछ छोटे और मध्यम दर्जे के उद्योगों को थोड़ी छूट देने की पैरवी की गई है, ताकि उनमें पलायन करने वाले मजदूरों को भी काम पर लगाया जा सके।

यहां आपको बता दें कि जिन उद्योगों को मंजूरी दी गई है, उनमें ऑप्टिक फाइबर केबल, कंप्रेसर एंड कंडेंसर इकाइयां, इस्पात और फेरस एलॉय मिल, पावरलूम, पल्प और कागज इकाइयां, उर्वरक, पेंट, प्लास्टिक, वाहन इकाइयां, रत्‍‌न एवं आभूषण तथा सेज एवं निर्यात से जुड़ी कंपनियों को काम की अनुमति मिली है। ट्रांसफॉर्मर एवं सर्किट व्हीकल, टेलीकॉम इक्विपमेंट व कंपोनेंट और खाद्य एवं पेय पदार्थो से जुड़े उद्योग भी काम कर सकेंगे।

वहीं, केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने सड़क निर्माण के कार्य शुरू करने की विशेष तौर पर पैरवी की है। उन्होंने अधिकारियों के साथ बैठक भी की है। गडकरी ने कहा कि कोरोना वायरस से सुरक्षित रखने के तमाम उपाय करते हुए सड़कों का निर्माण कार्य शुरू किया जा सकता है। इस दौरान सभी को बहुत ही कड़े नियमों का पालन करना होगा। इस बारे में राज्यों के सचिवों से बात हो रही है कि जहां-जहां अनुमति मिले वहां काम शुरू हो सके।

loading...

Check Also

पेट्रोल-डीजल की कमी के बाद अब इस देश में अंडरवियर्स और पजामे की भारी किल्लत

लंदन (ईएमएस)।आपकों जानकार हैरानी होगी कि यूके में इन दिनों अंडरवियर्स और पजामे की भारी ...