Saturday , October 16 2021
Breaking News
Home / ऑफबीट / जिसे समझा फालतू पुरानी पेंटिंग, वो इतने करोड़ रुपये में हुई नीलाम, जानें खासियत

जिसे समझा फालतू पुरानी पेंटिंग, वो इतने करोड़ रुपये में हुई नीलाम, जानें खासियत

दुनिया में हर चीज की एक कीमत होती है, इन्तजार होता है तो बस सही समय का। कई बार हमारे पास कुछ ऐसी अनमोल चीजें होती हैं, जिनकी कीमत का हमें अंदाजा नहीं होता। नाइजीरिया के एक परिवार के साथ भी ऐसा ही हुआ। नाइजीरिया के एक परिवार के घर की दीवार पर पिछले 48 साल से टंगी 20वीं सदी की पेंटिंग 10 करोड़ रुपए (11 लाख पाउंड) में बिकी। इसकी नीलामी मंगलवार को लंदन के सोथबी ऑक्शन हाउस में हुई। इसे नाइजीरिया के कलाकार बेन इनवोनु ने लागोस में 1971 में बनाया था।

मीडिया खबरों के अनुसार, नाइजीरिया के एक परिवार की दीवार पर एक पेंटिंग लगी हुई थी। परिवार को इस पेंटिंग के महत्‍व के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। फिर एक दिन परिवार के सदस्‍यों ने पेंटिंग पर बने पेंटर के दस्‍तखत को गूगल किया और उनकी किस्‍मत बदल गई। जिस पेंटिंग को वह आम मानकर चल रहे थे, वह अब 11 लाख पाउंड यानी करीब 10 करोड़ रुपये में नीलाम की गई है। 20वीं सदी में अफ्रीकन आधुनिकीकरण के मास्टर बेन इनवॉनवू की बनाई पेंटिंग ‘क्रिस्टीनी’ को 1971 में लागोस में पेंट की गई थी। इसके बाद से यह सिटर परिवार के घर में रखी थी।

1971 से सिटर परिवार के पास थी यह पेंटिंग

Image Source: Social Media

यह पेंटिंग नाइजीरिया के कलाकार बेन इनवॉनवू ने 1971 में लागोस में बनाई थी। पेंटिंग ‘अफ्रीकी मोनालिसा’ की है। बेन को 20वीं सदी में अफ्रीकन आधुनिकीकरण का पिता कहा जाता था। उनकी यह पेंटिंग ‘क्रिस्टीनी’ 1971 से ही इस परिवार के घर के दीवार की शोभा बढ़ा रही थी।

अनुमानित कीमत से 7 गुना अधिक में नीलाम हुई पेंटिंग

Image Source: Social Media

पेंटिंग क्रिस्टीन एलिजाबेथ डेविस की है, वह बेन इनवोनु की दोस्त और अमेरिकन हेयरस्टाइलिश थी। बेन को 20वीं सदी का सबसे प्रभावशाली अफ्रीकी कलाकारों में से एक माना जाता है। सोथवी ने बताया, 13 मिनट की बिडिंग में इसे अनुमानित कीमत से 7 गुना अधिक रकम में बेचा गया। नीलामी हाउस के मुताबिक, परिवार अभी तक इसे साधारण सी पेंटिंग समझ रहा था। लेकिन हाल ही में उन्होंने पेंटिंग के ऊपर के दस्तखत की जानकारी गूगल से जुटाई और इसे एग्जीबिशन में रखा। जहां उसकी रिकॉर्ड बोली 10 करोड़ रुपए में लगी।

पेंटिंग के हस्ताक्षर की जानकारी गूगल से जुटाई

Image Source: Social Media

लंदन स्थित नीलामी घर सोथेबी के फ्री ऑनलाइन एस्टिमेट प्लेटफॉर्म पर जब परिवार ने उस पेंटिंग पर किए गए हस्ताक्षर को गूगल किया, तो वे चौंक गए। नीलामी के पहले लगाए गए अनुमान से सात गुना ज्यादा रकम, तो पेंटिंग की नीलामी में रखने से पहले ही पहुंच गई थी और आखिरकार इसे 11 लाख पाउंड में बेचा गया। इस पेंटिंग में इफि की शाही राजकुमारी एडीतुतु का चित्र बनाया गया था। मगर, दशकों तक गायब रहने के बाद यह पेंटिंग हाल ही में लंदन के एक फ्लैट में पाई गई।

राजकुमारी तूतू “अफ्रीका की मोना लिसा”

Image Source: Social Media

बुकर पुरस्कार विजेता उपन्यासकार बेन ओकरी ने बताया कि यह चित्र नाइजीरिया की एक राष्ट्रीय आइकन का है, जिसे “अफ्रीका की मोना लिसा” माना जाता था। बेन इनवॉनवू की साल 1994 में मौत हो गई थी। उन्हें नाइजीरिया के आधुनिकीकरण का पिता माना जाता है। उन्होंने एडीतुतु की तीन पेंटिंग्स बनाई थीं। मगर, इन चित्रों को कहां बनाया गया था, यह हाल में हुई खोज के पहले तक एक रहस्य था।

1960 के दशक के उत्तरार्ध में नाइजीरियाई-बियाफ्रान संघर्ष में जातीय समूहों के टकराव के बाद उनकी यह पेंटिंग शांति का प्रतीक बन गई। इनवोनु की यह दूसरी पेंटिंग हैं, जिसकी इतनी ज्यादा कीमत मिली है। इससे पहले फरवरी 2018 में उनकी चर्चित तूतू पेंटिंग को करीब (12 लाख पाउंड) 11 करोड़ रुपए में बेचा गया था। इसे क्रिस्टीन पेंटिंग के तीन साल बाद 1974 में बनाया था। राजकुमारी तूतू अफ्रीकी मोनालिसा के नाम से चर्चित रहीं।

loading...

Check Also

खूबसूरत जेलीफिश को देखने नजदीक जाना पड़ेगा महंगा, 160 फीट लंबी मूछों में भरा है जहर

लंदन (ईएमएस)। पुर्तगाली मैन ओवर नाम की जेलीफिश आजकल ब्रिटेन के समुद्र किनारे आतंक मचा ...