Monday , June 14 2021
Breaking News
Home / खबर / जैनब की जान बचाने को चाहिए 16 करोड़ का टीका, क्राउड फंडिंग में आप भी करें सहायता

जैनब की जान बचाने को चाहिए 16 करोड़ का टीका, क्राउड फंडिंग में आप भी करें सहायता

मुंबई
मुंबई की मासूम तीरा का केस अभी सब के जहन में ताजा ही है कि बिल्कुल वैसा ही एक दूसरा मामला शहर में सामने आया है। अब मुंबई की 19 महीने की मासूम ज़ैनब को भी 16 करोड रुपए के एक टीके की जरूरत आन पड़ी है। डॉक्टरों के मुताबिक जैनब भी तीरा की तरह स्पाइनल मस्क्यूलर अट्रॉफी (SMA) नाम की बीमारी से ग्रसित है। इस बीमारी का फिलहाल इसी टीके के जरिए इलाज हो सकता है लेकिन यह टीका इतना महंगा है कि आम आदमी की पहुंच यहां खत्म हो जाती है। ऐसे में अब जैनब के पेरेंट्स को जनता से मदद की उम्मीद है। जैनब के पिता अब क्राउड फंडिंग के जरिए अपनी मासूम बिटिया के लिए पैसे जुटाने में लगे हुए हैं। ताकि बेटी को इंजेक्शन लगवाकर उसे एक आम जिंदगी मुहैया करवा सकें।

जैनब की मुस्कान इतनी प्यारी है कि हर कोई उसे खिल खिलाकर हंसते हुए देखना चाहता है। लेकिन जैनब हम सब की तरह एक आम जिंदगी नहीं जी रही है। वो दूसरे बच्चों की तरह चल फिर या खेलकूद नहीं सकती। क्योंकि वो नसों की एक बेहद गंभीर बीमारी का शिकार है।

स्पाइनल मस्क्यूलर अट्रॉफी एक रेयर जेनेटिक बीमारी है। जिसे सामान्य भाषा में नसों की एक दुर्लभ बीमारी कहा सकता है। इस बीमारी में मरीज का शरीर धीरे-धीरे कमजोर होने लगता है। ब्रेन के नर्व सेल्स और स्पाइनल कॉर्ड डैमेज होने लगती है। इसके अलावा शरीर में किसी भी प्रकार का मूवमेंट बंद हो जाता है। इस बीमारी में तंत्रिकाएं धीरे-धीरे मर जाती हैं और मस्तिष्क से आने वाला संदेश धीमा हो जाता है।

तीरा के ट्रीटमेंट के लिए आवश्यक 16 करोड़ के इंजेक्शन को जब अमेरिका से आयात करवाया गया। तब भारत सरकार ने भी इस इंजेक्शन पर लगने वाले टैक्स को माफ कर दिया था। जिसकी वजह से इसकी कीमत तकरीबन 6 करोड़ रुपये कम हो गयी थी। अब जैनब का परिवार भी मोदी सरकार से ऐसी ही मदद की उम्मीद कर रहा है।

अपनी मासूम बच्ची को बचाने के लिए जैनब के पिता हर मुमकिन प्रयास कर रहे हैं लेकिन उन्हें पता है कि इतनी बड़ी रकम खुद या जान पहचान के लोगों द्वारा इकट्ठा नहीं की जा सकती। इसलिए वे क्राउड फंडिंग का सहारा ले रहे हैं। ज़ैनब की मदद करने के लिए http://impactguru.com/s/OSqGGl लिंक पर जाकर मदद कर सकते हैं।

loading...
loading...

Check Also

2 करोड़: कोरोना से जंग में जान लड़ा दिया है गुजरात, हासिल किया बड़ा मुकाम

अहमदाबाद. प्रदेश में कोरोना से सुरक्षा कवच के रूप में रविवार को भी 234551 को ...