Sunday , June 13 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / हनीट्रैप का स्टिंग ऑपरेशन किए IPS, लड़की से चैटिंग कर गैंग का किया खुलासा

हनीट्रैप का स्टिंग ऑपरेशन किए IPS, लड़की से चैटिंग कर गैंग का किया खुलासा

यूपी के एक आईपीएस अफसर ने हनीट्रैप गैंग का खुलासा करने का नायाब तरीका अपनाया। कासगंज एएसपी आदित्य प्रकाश वर्मा ने इसके लिए स्टिंग ऑपरेशन किया। इसके लिए गैंग के ऑफर को स्वीकार करते गए। लड़की से चैटिंग की और खुद एक मामले में फंसे। जब गैंग के तौर तरीके समझ गए तो एफआईआर दर्ज कर गैंग को तलाश रहे हैं। दरअसल, कासगंज जिले में हनीट्रैप गिरोह लोगों से वसूली कर रहा था। इसकी कई शिकायतें पुलिस के पास आईं। इसके जिले के एक आईपीएस ने इस गिरोह को पकड़ने के लिए खुद मोर्चा संभाला।

रईसजादे बन रहे थे शिकार
एएसपी आदित्य प्रकाश वर्मा बताते हैं कि पिछले कई दिनों से साइबर फ्रॉड के मामले सामने आ रहे थे। जिसमें गैंग रईस युवाओं को फंसा रही थी। कई ऐसे पीड़ित मिले, जिनसे लाखों की वसूली भी की गई है। चूंकि यह बिल्कुल नया तरीका है। ऐसे में पुलिस की जांच में भी दिक्कतें आ रही थीं। इसीलिए मैंने हनीट्रैप का स्टिंग करने का फैसला किया।

पहले फेसबुक पर करते हैं दोस्ती
आदित्य प्रकाश वर्मा बताते हैं कि हनीट्रैप की शुरुआत फेसबुक से होती है। मुझे किसी अनजान फेसबुक आईडी से फ्रेंड रिक्वेस्ट आई। फिर मैसेंजर पर मुझसे मेरा मोबाइल फोन नंबर मांगा गया। इसके बाद व्हाट्सएप पर बातचीत शुरू हुई। उन्होंने कहा कि इस दौरान अनजान लड़कियां काफी निकटता दिखाती हैं। ऐसे में फिर यह वीडियो कॉल पर बात करती हैं। वीडियो कॉल के जरिये वह कुछ अश्लील हरकतें करती हैं। जब उस पर आपकी तरफ से कोई प्रतिक्रिया होती है तो वहीं गलत होता है। क्योंकि गैंग वीडियो रिकॉर्ड किया करता है।

इसके बाद आपसे ब्लैकमेल का दौर शुरू होता है। गैंग में स्थानीय निवासी भी दलाल के रूप में होते है। जोकि आपसे कांटेक्ट कर आपको पहले मामले के बारे में बताते हैं। यदि आप तैयार हुए तो वसूली हो जाती है। यदि आप तैयार नहीं हुए तो आपके आपत्तिजनक वीडियो को वह यूट्यूब, ट्विटर, इंस्टाग्राम, फेसबुक और व्हाट्सएप पर वायरल करने की धमकी देते हैं। इसमें आपका फंसना लगभग तय हो जाता है। अभी पुलिस के पास भी ऐसी ही शिकायतें आ रही हैं।

अब आईपीएस दर्ज कराएंगे मामला
आदित्य प्रकाश वर्मा ने बताया कि मैं हनीट्रैप गैंग के काम करने का तरीका समझ गया हूं। इसलिए मैंने इनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। जल्द ही गैंग में शामिल लोग गिरफ्त में होंगे।

कौन हैं आईपीएस आदित्य प्रकाश वर्मा?
आदित्य प्रकाश वर्मा 1991 बैच के पुलिस अधिकारी हैं। इनको 10 महीने पूर्व ही कासगंज जनपद में अपर पुलिस अधीक्षक के पद पर तैनाती के दौरान ही आईपीएस अवॉर्ड हुआ है। इससे पहले ये गोरखपुर में अपर पुलिस अधीक्षक के रूप में तैनात थे। 28 जून 2020 को ये गोरखपुर से कासगंज ट्रांसफर होकर आए हैं।

loading...
loading...

Check Also

कल से 45+ वालों के पास पहुंचेगी वैक्सीन, Whatsapp मैसेज करिए.. आ जाएगी टीम

बीकानेर देश का पहला ऐसा शहर होने जा रहा है जहां सोमवार से घर जाकर ...